close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने सिख श्रद्धालुओं के जत्थे को किया रवाना, मनमोहन सिंह से भी मिले

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज करतारपुर गलियारे का उद्घाटन करने पंजाब पहुंचे थे. 

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने सिख श्रद्धालुओं के जत्थे को किया रवाना, मनमोहन सिंह से भी मिले

डेरा बाबा नानक (पंजाब): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) का उद्घाटन किया और श्रद्धालुओं के जत्थे को पंजाब के गुरदासपुर जिला स्थित ऐतिहासिक नगर डेरा बाबा नानक से पाकिस्तान में मौजूद तीर्थ स्थल गुरुद्वारा दरबार साहिब के लिए रवाना किया. श्रद्धालुओं के इस दल में शामिल पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी से भी पीएम मोदी ने मुलाकात की. इससे पहले, मोदी पंजाब के सुल्तानपुर लोधी शहर पहुंचकर बेर साहिब गुरुद्वारे में मत्था टेका और पाकिस्तान की सीमा से लगे डेरा बाबा नानक गुरुवारे में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए.

इमरान खान को शुक्रिया कहा
इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने करतारपुर कॉरिडोर खोलने की पहल के लिए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान नियाजी का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा कि इमरान ने करतारपुर कॉरिडोर के विषय में भारत की भावनाओं को समझा, सम्मान दिया और उसी भावना के अनुरूप कार्य किया.

दोहरी खुशी लेकर आया
पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा, ''गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश-उत्सव से पहले, इंटीग्रेटेड चेकपोस्ट, करतारपुर साहिब कॉरिडोर का खुलना, हम सभी के लिए दोहरी खुशी लेकर आया है. गुरु नानक देव जी, सिर्फ सिख पंथ की, भारत की ही धरोहर नहीं, बल्कि पूरी मानवता के लिए प्रेरणा पुंज हैं. मैं आप सभी को, देश और दुनिया में बसे सभी सिख भाई-बहनों को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के अवसर पर हार्दिक बधाई देता हूं.'' उन्होंने आगे कहा, इस कॉरिडोर के बनने के बाद अब गुरुद्वारा दरबार साहब के दर्शन आसान हो जाएंगे. मैं पंजाब सरकार का, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का इस कॉरिडोर को तय समय में बनाने वाले हर श्रमिक साथी का बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा:-
- करतारपुर केवल गुरुनानक देवजी की कर्मभूमि नहीं है बल्कि करतापुर के कण-कण में गुरुनानक देवजी के पसीने की महक मिली हुई है. उसकी वायु में उनकी वाणी घुली हुई है.
- कहते हैं शब्द हमेशा ऊर्जा बनकर वातावरण में विद्यमान रहते हैं. करतारपुर से मिली गुरुवाणी की ऊर्जा, सिर्फ हमारे सिख भाई-बहनों को ही नहीं बल्कि हर भारतवासी को अपना आशीर्वाद देगी.
- गरुनानक देवजी ने सीख दी है कि सच्चाई और ईमानदारी से किए गए विकास से हमेशा तरक्की और समृद्धि के रास्ते खुलते हैं. गरुनानक देवजी ने सीख दी है कि धन तो आता जाता रहेगा पर सच्चे मूल्य हमेशा रहते हैं.
- बीते 1 साल से देश और विदेश में कीर्तन, कथा, प्रभात फेरी, लंगर, जैसे आयोजनों के माध्यम से गुरु नानक देव की सीख का प्रचार किया जा रहा है. इससे पहले गुरु गोबिंद सिंह जी के 350वें प्रकाशोत्सव को भी इसी तरह भव्यता के साथ पूरी दुनिया में मनाया गया था.
- केंद्र सरकार ने एक और महत्वपूर्ण फैसला लिया है, जिसका लाभ दुनियाभर में बसे अनेक सिख परिवारों को हुआ है. कई सालों से, कुछ लोगों को भारत में आने पर जो दिक्कत थी, अब उन दिक्कतों को दूर कर दिया गया है.
- भारत की एकता, भारत की रक्षा-सुरक्षा से लेकर, गुरुनानक देवजी से गुरु गोविंद जी तब हर गुरु साहब ने निरंतर प्रयास किए हैं, अनेक बलिदान दिए हैं. इसी परंपरा को आजादी की लड़ाई और आजाद भारत की रक्षा में सिख साथियों ने पूरी शक्ति से निभाया है.
- हमारी गुरु परंपरा, संत परंपरा, ऋषि परंपरा, ने अलग-अलग कालखंड में, अपने-अपने हिसाब से चुनौतियों से निपटने के रास्ते सुझाए हैं. उनके रास्ते जितने तब सार्थक थे, उतने ही आज भी अहम हैं. राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय चेतना के प्रति हर संत, हर गुरु का आग्रह रहा है.

देखें- LIVE TV

12 नवंबर को सिखों के प्रथम गुरु गुरुनानक देव की 550वां प्रकाश पर्व है. इससे 3 दिन पहले कॉरिडोर का उद्घाटन किया गया.

 

 इस गलियारे के माध्यम से पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने के लिए सिख तीर्थयात्रियों का पहला जत्था रवाना हुआ.

यह सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के 12 नवंबर को होने वाले 550वें प्रकाशोत्सव के अवसर पर होने जा रहा है. यह अवसर 72 वर्षों के बाद आया है जब श्रद्धालु भारत से पाकिस्तान जाकर आसानी से करतारपुर साहिब में मत्था टेक सकेंगे.

ये VIP जाएंगे पाकिस्तान
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल शनिवार को करतारपुर साहिब का दौरा किया. इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी करतारपुर गलियारे की एकीकृत चेक पोस्ट का उद्घाटन करेंगे. मनमोहन सिंह के अलावा प्रतिनिधिमंडल में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह हैैं. इसके अलावा पंजाब राज्य के सभी विधायक और सांसद भी प्रतिनिधिमंडल में शामिल रहेंगे.

श्रद्धालुओं के लिए खास इंतजाम
डेरा बाबा नानक में दूरदराज के क्षेत्रों से लेकर विदेशों से भी तीर्थयात्री पहुंच रहे हैं. तीर्थयात्रियों की भीड़ को समायोजित करने के लिए बेहतर इंतजाम किए गए हैं. यहां 30 एकड़ जमीन को एक टेंट वाले सुसज्जित शहर में बदल दिया गया है. तीर्थयात्रियों के स्वागत के लिए इस शहर में यूरोपीय शैली के कुल 544 टेंट और 100 स्विस कॉटेज तैयार की गई हैं. इसके अलावा दरबार शैली के 20 आवास भी ऐतिहासिक समारोह से पहले पूरी तरह तैयार कर दिए गए हैं.

पंडाल में 30,000 श्रद्धालु रुक सकेंगे
यहां मुख्य पंडाल में 30,000 तीर्थयात्रियों की क्षमता है. 11 नवंबर तक डेरा बाबा नानक उत्सव के दौरान यहां प्रत्येक दिन श्रद्धालुओं के जुटने की उम्मीद है. 'लंगर' हॉल को एक समय में 1,500 लोगों को खाना खिलाने के लिहाज से तैयार किया गया है, जिसमें आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित रसोई घर है.

3,544 लोगों के रुकने की सुविधा
टेंट के बसाए गए इस शहर के प्रोजेक्ट में 4.2 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं, जिसमें 3,544 लोगों के आवास की सुविधा है. इसकी अन्य विशेषताओं में एक पंजीकरण कक्ष, एक 'जोडा घर', एक क्लॉकरूम, एक वीआईपी लाउंज और एक फायर स्टेशन शामिल हैं. बुकिंग और पंजीकरण मुफ्त है और इसे ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से किया जा सकता है.