4 इनामी सहित 32 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण, कुछ ने कहा- लिस्ट से नाम कटाने आए

लोन वर्राटू अभियान के तहत आज दंतेवाडा SP के समक्ष 4 इनामी सहित 32 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया. ये सभी नक्सली बारसूर थाना क्षेत्रान्तर्गत पांच अगल अगल गांव के निवासी थे. सभी नक्सली बारसूर थाना में पहुंचकर अपने आपको पुलिस के हवाले कर दिया. इनमें पांच महिला नक्सली भी शामिल थीं.

4 इनामी सहित 32 नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण, कुछ ने कहा- लिस्ट से नाम कटाने आए
प्रतीकात्मक फोटो

बप्पी रे/दंतेवाड़ा: लोन वर्राटू अभियान के तहत आज दंतेवाडा SP के समक्ष 4 इनामी सहित 32 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया. ये सभी नक्सली बारसूर थाना क्षेत्रान्तर्गत पांच अलग-अलग गांव के निवासी थे. सभी ने बारसूर थाना में पहुंचकर अपने आपको पुलिस के हवाले किया. इनमें पांच महिला नक्सली भी शामिल थीं. हालांकि इस दौरान कुछ ने कहा कि हम नक्सली नहीं हैं सिर्फ पुलिस की लिस्ट से नाम कटवाने आए हैं.

4 महीने से जिले में चल रहे लोन वर्राटू अभियान को लगातार सफलता मिलती दिख रही है. इस अभियान से प्रभावित होकर रविवार को 5 अलग-अलग गांव के 32 नक्सलियों ने एसपी के सामने खुद को कानून के हवाले कर दिया. पिछले 4 महीने में 40 इनामी नक्सली सहित 150 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण कर दिया है. 

ये भी पढ़ें- यूपी के कोतवाल का महबूबा मुफ्ती को करारा जवाब, लिखा-'हमें ऐसी जहरीली 'महबूबा' नहीं चाहिए'

रविवार को आत्मसमर्पण करने आये नक्सलियो में कई ऐसे भी थे जिनका यह कहना था कि वे लोग कभी नक्सल संगठन के साथ काम नहीं किये हैं. फिर भी उनका नाम कैसे नक्सली लिस्ट में जुड़ गया उन्हें नहीं पता. वे लोग आज केवल पुलिस के नक्सली वाली लिस्ट से अपना नाम कटवाने आये हैं. इस विषय में दंतेवाड़ा SP अभिषेक पल्लव ने कहा कि नक्सली लिस्ट में सभी नक्सलियों का नाम पर्याप्त पतासाजी के बाद ही जोड़ा गया है फिर भी अगर किसी निर्दोष का नाम जुड़ गया हो तो वे पर्याप्त सबूत पेश कर अपना नाम कटवा सकता है.

CM शिवराज ने आगर मालवा पहुंचकर बताए देश में कांग्रेस के तीन रूप

क्या है लोन वर्राटू अभियान?
लोन वर्राटू गोंडी भाषा का एक शब्द है जिसका मतलब होता है घर वापस आइए. इस अभियान की शुरुआत एसपी अभिषेक पल्लव ने 2016 में की थी. इस अभियान के तहत अब तक हजारों नक्सलियों की घर वापसी हो चुकी है. 

WATCH LIVE TV