close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गणेश विसर्जन के दौरान अवैध खदान में डूबे 4 किशोर, मौत

वहीं युवकों को डूबता देख एक राहगीर युवक दिनेश राजावत ने अपनी जान की परवाह न करते हुए पानी में छलांग लगा दी और एक-एक कर चारों को बाहर निकाला, लेकिन तब तक चारों की मौत हो चुकी थी.

गणेश विसर्जन के दौरान अवैध खदान में डूबे 4 किशोर, मौत
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

ग्वालियरः मध्य प्रदेश के ग्वालियर में गणेश प्रतिमा विसर्जन को गए चार किशोर अवैध खदान में डूब गए, जिसके बाद स्थानीय लोगों की मदद से चारों किशोरों को बाहर निकाला गया, लेकिन तब तक ये सभी दम तोड़ चुके थे. मृतकों में से दो बच्चे सगे भाई बताए गए है. मिली जानकारी के मुताबिक ये सभी किशोर महाराजपुरा गांव से कुछ दूर स्थित एक निजी कॉलेज के पीछे स्थित खदान के गड्ढे में पानी भरने से उसमें गणेश प्रतिमा को विसर्जित करने के लिए उतरे थे, जिसके बाद चारों खदान में डूबने लगे. स्थानीय लोगों की मदद से जैसे-तैसे चारों को बाहर निकाला गया, लेकिन तब तक चारों की मौत हो चुकी थी. वहीं प्रतिमा विसर्जन के दौरान पहले ही दिन इस तरह की घटना से पूरे गांव में मातम पसर गया है.

VIDEO: देखते ही देखते पानी के तेज बहाव में बह गई कई जिंदगियां

गणेश विसर्जन के दौरान हादसा
पुलिस के मुताबिक, ग्वालियर-भिंड हाइवे पर महाराजपुरा थाना अंतर्गत महाराजपुरा गांव के कुछ लोग 5 बजे के लगभग लोडिंग वाहन से प्रतिमा विसर्जित करने के लिए गए थे. तभी यह हादसा हो गया. ग्रामीणों के मुताबिक ग्रामीण हर साल इसी जगह पर प्रतिमा विसर्जित करते हैं, लेकिन इस बार खदान में पानी अधिक होने के कारण यह हादसा हो गया. दरअसल, ये सभी किशोर प्रतिमा को हाथ में उठाकर खदान में उतर गए, जिससे चारों लोग खदान में डूब गए.

नोएडा में पानी भरे गड्ढे में डूबने से दो बच्चों की मौत

बच्चों को बचाने पानी में उतरा राहगीर
वहीं पुलिस को और किसी युवक के डूबे होने की आशंका थी इसिलए गोताखोर काफी देर तक खदान में भरे पानी में तलाश करते रहे, लेकिन उन्हें बाद में कोई और नहीं मिला. मृतकों के नाम अजय पाल ,सतीश बघेल, सूरज पाल, शुभम गौड़ थाने के पीछे अवैध खदान में भरे पानी में गणेश विसर्जन के लिए गए थे. वहीं युवकों को डूबता देख एक राहगीर युवक दिनेश राजावत ने अपनी जान की परवाह न करते हुए पानी में छलांग लगा दी और एक-एक कर चारों को बाहर निकाला, तब तक प्रशासनिक अमला भी पहुंच चुका था, जिसके बाद चारों बच्चों को अस्पताल भेजा गया. जहां डॉक्टरों ने चारों को मृत घोषित कर दिया.