पाकिस्तान की जेल में बंद है दमोह का यह शख्स, वतन वापस के लिए परिजनों ने लगाई गुहार

दमोह एसपी ने भी इसकी पुष्टि कर दी है. हालांकि, एसपी ने बताया कि उनके पास फिलहाल भारत सरकार या पाकिस्तानी दूतावास से कोई सूचना नहीं मिली है.

पाकिस्तान की जेल में बंद है दमोह का यह शख्स, वतन वापस के लिए परिजनों ने लगाई गुहार
नोहटा के शीशपुर पटी गांव का आदिवासी समुदाय से आने वाला बारेलाल बीते 2 साल से भी ज्यादा वक्त से लापता था.

दमोह: मध्य प्रदेश के दमोह में करीब दो साल से भी ज्यादा वक्त तक परिजन अपने लापता बेटे की खोज करते रहे. पुलिस ने युवक को खोजने की काफी कोशिश की. लेकिन, कुछ पता नहीं चला. सालों बाद बेटे की ख़बर आई, तो परिवार वालों के पैरों तले ज़मीन खिसक गई. पता चला कि बेटा पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान पुलिस की गिरफ्त में है. और वहां की जेल में बंद है.

परिजनों की मानें तो, नोहटा के शीशपुर पटी गांव का आदिवासी समुदाय से आने वाला बारेलाल बीते 2 साल से भी ज्यादा वक्त से लापता था. जिसके गुमशुदा होने की रिपोर्ट 4 मार्च 2017 को दर्ज कराई गई थी. उस वक्त बारेलाल 28 साल का था. परिजनों और पुलिस वालों ने बहुत ढूंढा लेकिन, बारेलाल नहीं मिला. परिवार के लोग बताते हैं कि मानसिक रूप से विक्षिप्त बारेलाल कई बार घर से भाग जाता था. लेकिन कुछ समय बाद मिल भी जाता था.

हालांकि, दो दिन पहले पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से सामने आई ख़बर के मुताबिक, वहां की पुलिस ने 2 भारतीयों को पकड़ा है. जिसमें से एक मध्यप्रदेश के दमोह का रहने वाला है. दमोह एसपी ने भी इसकी पुष्टि कर दी है. हालांकि, एसपी ने बताया कि उनके पास फिलहाल भारत सरकार या पाकिस्तानी दूतावास से कोई सूचना नहीं मिली है.

पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से जो जानकारी और तस्वीरें सामने आई हैं. उस आधार पर बारेलाल के परिवारवालों ने उसकी पहचान कर ली है. ख़बर पता लगने के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है. परिवार अब मध्यप्रदेश और भारत सरकार से बारेलाल की जल्द वतन वापसी की गुहार लगा रहा है.