आखिर क्यों खुले आसमान के नीचे बच्चे को जन्म देने को मजबूर हुई मां?

एक महिला ने अस्पताल के बाहर बच्चे को जन्म दिया. महिला के परिजनों का कहना है कि अस्पताल की वार्ड नर्स के ढीले रवैये के कारण प्रसव पीड़ा से जूझ रही महिला खुले आसमान के नीचे बच्चे को जन्म देने को मजबूर हुई.

आखिर क्यों खुले आसमान के नीचे बच्चे को जन्म देने को मजबूर हुई मां?
प्रतीकात्मक तस्वीर

अंबिकापुर: छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर से एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां एक महिला ने अस्पताल के बाहर बच्चे को जन्म दिया. महिला के परिजनों का कहना है कि अस्पताल की वार्ड नर्स के ढीले रवैये के कारण प्रसव पीड़ा से जूझ रही महिला खुले आसमान के नीचे बच्चे को जन्म देने को मजबूर हुई.

ये घटना अंबिकापुर के मेडिकल कॉलेज अस्पताल की है. बताया जा रहा है कि ये महिला बलरामपुर जिले के रघुनाथपुर थाना क्षेत्र के कोटी गांव की रहने वाली है. जिसे बुधवार 3 जून को डिलीवरी के लिए अस्पताल में भर्ती कराया था.

ये भी पढ़ें-किसानों की मेहनत पानी में मिली, बारिश की भेंट चढ़ा हजारों क्विंटल गेहूं

परिजनों का कहना है कि अस्पताल के शौचालय में गंदगी होने के कारण महिला को शौच के लिए बाहर जाना पड़ा था. इसी दौरान महिला को अचानक प्रसव पीड़ा होने लगी. जब परिजनों ने इसकी जानकारी वार्ड नर्स को दी तो उनके मुताबिक, "वार्ड नर्स ने कहा कि बाहर जो भी हो हमारी जिम्मेदारी नहीं है, पीड़िता को खुद अंदर लाओ."

जिसके बाद पीड़ा से तड़प रही महिला की सास और अन्य महिलाओं ने बाहर ही उसका प्रसव कराया. फिलहाल बताया जा रहा है कि जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं और अस्पताल में भर्ती हैं.

बता दें कि इसकी जानकारी नये कलेक्टर संजीव कुमार झा को भी दी गई. इसपर उन्होंने कहा है कि ऐसे मामले नाजुक होते हैं. अस्पताल प्रबंधन को ऐसे मामलों पर ध्यान देने को कहा गया है. उम्मीद है कि भविष्य में ऐसी घटना दोबारा ना हो.

Watch LIVE TV-