close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

AAP ने कहा, 'मूर्तियों की बजाय सरकार शिक्षा और स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करें'

 आप ने कहा कि देश के विभिन्न प्रदेशों में नेताओं और भगवान की विशाल मूर्तियां स्थापित करने को लेकर होड़ क्यों लग गई है.

AAP ने कहा, 'मूर्तियों की बजाय सरकार शिक्षा और स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करें'
आप नेता संजय सिंह ने कहा,‘इस प्रकार की ऊंची मूर्तियां बनाने के बजाय करदाताओं की गाढ़ी कमाई को गरीबी और बेरोजगारी उन्मूलन, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं के सुधार में खर्च किया जाना चाहिए जिन समस्याओं का सामना देश कर रहा है.’ (फाइल फोटो)

भोपाल: गुजरात में लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा के अनावरण के कुछ दिन बाद आम आदमी पार्टी (आप) ने शनिवार को कहा कि ऐसी मूर्तियां स्थापित करने के बजाय सरकारों को गरीबी उन्मूलन, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा में सुधार जैसे अहम मसलों पर ध्यान देना चाहिए. 

आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्य सभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि देश के विभिन्न प्रदेशों में नेताओं और भगवान की विशाल मूर्तियां स्थापित करने को लेकर होड़ क्यों लग गई है. 

उन्होंने कहा, ‘सरदार वल्लभ भाई पटेल की विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति स्थापित होने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में भगवान राम की 151 मीटर ऊंची मूर्ति बनाने का प्रस्ताव रखा है. इस मुद्दे पर देश में अचानक प्रतिस्पर्धा शुरू हो गई है.’

उन्होंने कहा,‘इस प्रकार की ऊंची मूर्तियां बनाने के बजाय करदाताओं की गाढ़ी कमाई को गरीबी और बेरोजगारी उन्मूलन, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं के सुधार में खर्च किया जाना चाहिए जिन समस्याओं का सामना देश कर रहा है.’

'क्या इस तरह की परियोजनाओं पर धन खर्च करना जरूरी है'
आप नेता ने मुंबई में अरब सागर में मराठा योद्धा छत्रपति शिवाजी महाराज की 210 मीटर ऊंची मूर्ति स्थापित किए जाने के प्रस्ताव का उदाहरण दिया और पूछा कि क्या इस तरह की परियोजनाओं पर भारी भरकम धन खर्च करना जरूरी है जब देश कई गंभीर मुद्दों से जूझ रहा है.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के नर्मदा जिले में केवड़िया में सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा का हाल में अनावरण किया है. 

संजय ने कहा,‘देश को इस तरह की प्रतिस्पर्धा से कुछ भी हासिल नहीं कर पायेगा, क्योंकि कल कोई और आकर डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर की 250 मीटर ऊंची प्रतिमा या महाराणा प्रताप की 300 मीटर ऊंची प्रतिमा का निर्माण कर सकता है.’

(इनपुट - भाषा)