मध्य प्रदेश: अजय सिंह के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने की अटकलें, अभी से मिलने लगी बधाइयां
Advertisement
trendingNow1/india/madhya-pradesh-chhattisgarh/madhyapradesh488475

मध्य प्रदेश: अजय सिंह के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने की अटकलें, अभी से मिलने लगी बधाइयां

एमपी कांग्रेस में पूर्व नेता प्रतिपक्ष और दिवंगत सीएम अर्जुन सिंह के बेटे अजय सिंह राहुल को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनने पर बधाई देने के सिलसिले जारी हैं.

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री कमलनाथ संभाल रहे हैं.

भोपाल: मध्यप्रदेश में इन दिनों कांग्रेस एक अजीबो-गरीब दौर से गुजर रही है, यह हालात किसी ने नहीं बल्कि पार्टी के प्रवक्ता, मंत्री और नेताओं ने पैदा किए हैं. प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री कमलनाथ संभाल रहे हैं. पार्टी ने उन्हीं की अगुवाई में विधानसभा का चुनाव लड़ा और 15 सालों का सूखा खत्म किया, लेकिन उनके इस पद पर रहते हुए एमपी कांग्रेस में पूर्व नेता प्रतिपक्ष और दिवंगत सीएम अर्जुन सिंह के बेटे अजय सिंह राहुल को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनने पर बधाई देने के सिलसिले जारी हैं.

हालात यह है कि खुद पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह अपने फेसबुक पेज से शायराना अंदाज में प्रदेश की सियासत को गरमाने में लगे हैं ओर कांग्रेस की गुटबाजी को हवा दे रहे, तो वहीं प्रदेश सरकार के मंत्री प्रियव्रत सिंह तो उन्हें प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनने पर बधाई तक दे डाली यही नहीं प्रवक्ताओं ने भी प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष बनने पर अजय सिंह फ़ोटो को शेयर करते हुए शेरों-शायरियां लिखीं.

प्रदेश कांग्रेस में कमलनाथ के चुनाव के पहले ताजपोशी से लेकर टिकट वितरण और फिर उसके बाद मंत्री पद तक के मामलों को लेकर प्रदेश में गुटबाजी का सामना करना पड़ा था, तो एक बार फिर कमलनाथ के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रहते अजय सिंह को बधाई देने का सिलसिला जारी है वहीं कांग्रेस की इस गुटबाजी पर बीजेपी ने जमकर हमला बोला है.

fallback

बीजेपी नेता हितेश वाजपेई ने 'गैंग्स ऑफ कांग्रेस' का झगड़ा करार देते कमलनाथ की परेशानी बताया है उनकी मानें तो कांग्रेस के कुनबे में ज्योतिरादित्य और अजय सिंह का झगड़ा सुलझाना कमलनाथ चुनौती है.

इस पूरे मामले के सामने आने पर प्रदेश सरकार के जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने साफ कर दिया है कि अभी तक तो प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ हैं और आगे फैसला पार्टी आलाकमान को करना है. वहीं कांग्रेस एक मजबूत धड़ा और सिंधिया कैम्प लोकसभा चुनाव तक प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में देखना चाहता है.

Trending news