MP: एकसाथ 23 गौवंशों की मौत से मचा हड़कंप, घटना की होगी जांच

मध्य प्रदेश के अलीराजपुर जिले में 23 गौवंशों की मौत के बाद हड़कंप मच गया है.

MP: एकसाथ 23 गौवंशों की मौत से मचा हड़कंप, घटना की होगी जांच
डॉक्टरों ने कहा कि पोस्टमोर्टम के बाद ही असल कारणों का खुलासा हो पाएगा.(प्रतीकात्मक फोटो)

इंदौर: मध्य प्रदेश के अलीराजपुर जिले में 23 गौवंशों की मौत के बाद हड़कंप मच गया है. जिले के नानपुर गांव की एक गौशाला में गुरुवार को अचानक एक के बाद एक गायों की तबीयत बिगड़ने लगी. इससे गौशाला में अफरातफरी मच गई. गौशाला को संभालने वाले लोगों ने गायों की तबीयत बिगड़ने पर तत्काल पशुचिकित्सकों को बुलाया. लेकिन उनके पहुंचने से पहले ही 23 गोवंशों की मौत हो गई. प्रारंभिक जांच के आधार पर माना जा रहा है कि सभी गोवंशों की मौत के पीछे फ़ूड पॉइजनिंग कारण हो सकता है. इतनी बड़ी संख्या में गायों की मौत के बाद प्रशासन हरकत में आया और पशुचिकित्सकों की टीम के साथ तहसीलदार व अन्य अधिकारी गोशाला पहुंचे. वहीं, ग्रामीणों का आरोप है कि किसी बड़ी साजिश के तहत इस घटना को अंजाम दिया गया है.

पहले बिगड़ी तबीयत, फिर हो गई मौत
दरअसल, अलीराजपुर जिले के नानपुर गांव की गोपाल गौशाला में गुरुवार सुबह अचानक 23 गौवंशों की तबीयत बिगड़ गई. एक के बाद एक गायों की तबियत बिगड़ने की सूचना गौशाला के समिति सदस्यों को मिली तो, आननफानन में पशुचिकित्सकों को खबर की गई. कुछ ही देर में तबीयत बिगड़ने के साथ ही अचानक गायों की मौत होने लगी और देखते ही देखते 23 गौवंश की मौत हो गई. इतनी बड़ी संख्या में गायों की मौत के बाद प्रशासन भी सकते में आ गया. पशुचिकित्सकों की टीम के साथ तहसीलदार व कई अधिकारी तत्काल गौशाला पहुंचे. प्राथमिक तौर पर जांच में पशुचिकित्सकों की टीम ने बताया कि गायों की मौत के पीछे फ़ूड पॉइजनिंग एक कारण हो सकता है. हालाँकि डॉक्टरों ने पोस्टमोर्टम के बाद ही असल कारणों के खुलासे की बात कही है. वहीं, ग्रामीणों का आरोप है कि इस पूरी घटना के पीछे कोई षड्यंत्र हो सकता है. इतनी बड़ी संख्या में गौवंशो की मौत के बाद जिले के कई संगठनो में आक्रोश फैल गया है. घटना के बाद नानपुर गौशाला समिति के सदस्यों ने पुलिस में एफआईआर दर्ज कराकर जांच की मांग की है.