MP के सभी मंत्री अपने वेतन का 30% CM राहत कोष में करेंगे दान, मुख्यमंत्री शिवराज ने की शुरुआत

शुक्रवार को अस्पताल से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोरोना समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसका निर्णय लिया

MP के सभी मंत्री अपने वेतन का 30% CM राहत कोष में करेंगे दान, मुख्यमंत्री शिवराज ने की शुरुआत
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अस्पताल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोरोना की समीक्षा बैठक करते हुए.

भोपाल: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वह और उनकी कैबिनेट के सभी मंत्री अपने 3 महीने के वेतन का 30% हिस्सा सीएम रिलीफ फंड में जमा कराएंगे. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसकी शुरुआत करते हुए अपने 3 महीने के वेतन का 30% हिस्सा सीएम रिलीफ फंड में जमा करवा दिया है, जो करीब सवा लाख रुपए बनता है. शुक्रवार को अस्पताल से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोरोना समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसका निर्णय लिया.

सीएम की अपील पर मंत्री गोपाल भार्गव ने अपने एक वेतन का 30% कोविड रिलीफ फंड में डोनेट करने की बात कही. सीएम शिवराज ने कहा, ''मैंने 31 जुलाई 2020 तक प्राप्त होने वाले अपने तीन महीने के वेतन का 30 प्रतिशत मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में जमा कराया है. इसी तरह आगे के तीन महीने के वेतन की तीस प्रतिशत राशि को सीएम रिलीफ फंड में जमा कराऊंगा.'' सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना के कारण प्रदेश की अर्थव्यवस्था पर काफी बुरा प्रभाव पड़ा है. इसलिए सरकार के अनावश्यक खर्चों में कटौती की जरूरत है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हीं कार्यों को करें जो बेदह जरूरी हों. सबसे पहले कोरोना और फिर उसके बाद महत्व के अनुसार दूसरे कार्य किए जाएं. हमें बेफिजूल खर्ची से बचना होगा. इसे मैं अनावश्यक खर्च कहता हूं. उन्होंने सभी विधायकों से भी अपने वेतन का 30% हिस्सा मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में डोनेट करने की अपील की. मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि राज्य की जनता भी क्षमता अनुसार मदद कर सकती है. सीएम ने कहा कि कोरोना संकट किसी एक-दो का नहीं है, यह हम सबका है और हमें इसके खिलाफ मिलकर लड़ाई लड़नी है.

WATCH LIVE TV