जोगी की पार्टी में दो फाड़: धरमजीत-रेणु BJP का, देवव्रत और प्रमोद कर रहे कांग्रेस का सपोर्ट

अमित जोगी के भाजपा को समर्थन देने के ऐलान के बाद रविवार को पार्टी के दो विधायक कांग्रेस के समर्थन में उतर आए. खैरागढ़ के देवव्रत सिंह एवं और बलौदा बाजार के प्रमोद शर्मा ने कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान किया है.

जोगी की पार्टी में दो फाड़: धरमजीत-रेणु  BJP का, देवव्रत और प्रमोद कर रहे कांग्रेस का सपोर्ट
पार्टी के हुए दो हिस्से

मरवाही: मरवाही उपचुनाव में सीधा मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच है. इसके बावजूद मरवाही की राजनीति जोगी कांग्रेस के इर्द-गिर्द घूम रही है.मरवाही उपचुनाव में जैसे-जैसे मतदान की तिथि करीब आ रही है दोनों ही राजनीतिक दल कांग्रेस और भाजपा एक दूसरे को मात देने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. वहीं जोगी कांग्रेस जो प्रत्यक्ष रूप से तो चुनाव से बाहर हैं पर उसकी मौजूदगी का एहसास दोनों पार्टियां लगातार करा रही हैं.

2 दिन पहले ही जोगी कांग्रेस विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह और  प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने भाजपा को समर्थन देने का ऐलान किया था. तो रविवार को पार्टी के दो विधायक कांग्रेस के समर्थन में उतर आए. खैरागढ़ के देवव्रत सिंह एवं और बलौदा बाजार के प्रमोद शर्मा ने कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान किया है.

कांग्रेस का समर्थन करने वालों को माफ नहीं करेगी जनता: अमित जाोगी
जिसके बाद अमित जोगी दोनों विधायकों पर नाराजगी जताई है. जोगी ने कहा कि जिस कांग्रेस को ये लोग समर्थन दे रहे हैं, उसी कांग्रेस के अध्यक्ष ने स्वर्गीय अजीत जोगी को निकम्मा, गद्दार, पाखंडी कहा था. अब अगर वह कांग्रेस को समर्थन देते हैं तो मरवाही क्षेत्र की जनता उन्हें माफ नहीं करेगी.

बता दें कि रविवार को कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के दो विधायकों देवव्रत सिंह और प्रमोद शर्मा ने अमित जोगी और पार्टी पर अपमान करने का आरोप लगाया. तो वहीं विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह और अमित जोगी ने उनपर कांग्रेस के इशारे पर काम करने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ज्वाइन करने की चुनौती दे डाली.

ये भी पढ़ें-Alert: रेल में नहीं किया इन नियमों का पालन, तो सीधा पहुंचेंगे 5 साल के लिए जेल

रविवार को देवव्रत सिंह और प्रमोद शर्मा ने कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित जोगी द्वारा भाजपा को समर्थन देने के निर्णय को अजीत जोगी की इच्छा के विपरीत बताया.साथ ही उन्होंने मरवाही की जनता से कांग्रेस को वोट देने की अपील की.

इन विधायकों के कांग्रेस को समर्थन करने के बादअमित जोगी, धर्मजीत सिंह और रेणु जोगी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. जहां अमित जोगी ने कहा कि देवव्रत सिंह और प्रमोद शर्मा दोनो मेरे भाई हैं. मेरे पिताजी भी उनको बेटा मानते थे.अगर उन्होंने मेरे पिताजी का अपमान करने वाले मोहन मरकाम और भूपेश बघेल का भाषण सुने होते तो कभी भी उनका साथ नहीं देते. बल्कि मेरा और मेरी मां का साथ देते.

अमित जोगी ने देवव्रत सिंह और प्रमोद शर्मा पर हमला बोलते हुए कहा कि जब भूपेश बघेल मेरे पिता जी को धूर्त निकम्मा और घमंडी कह रहे थे. जब मेरा और मेरी पत्नी का नामांकन निरस्त हुआ तब उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों नहीं की. भूपेश बघेल मेरे पिता को अंतागढ़ और झीरम मामलों में झूठा फंसाने को कहते रहे तब उन्होंने इसका विरोध नहीं किया.

ये भी पढ़ें-कांग्रेस MLA को फ्रांस नहीं, लव जेहाद के विरोध में करना चाहिए था प्रदर्शन- रामेश्वर शर्मा

3 साल से कांग्रेस ज्वाइन करना चाहते थे JCCJ के विधायक
वहीं धर्मजीत सिंह ने भी बड़ा बयान देते हुए कहा कि ये दोनों विधायक 3 साल से कांग्रेस के आगे पीछे घूम रहे हैं. ये लोग कांग्रेस में जाएं हमें कोई दिक्कत नहीं है.लेकिन कांग्रेस पार्टी ने जीते जी अजीत जोगी का अपमान किया, उनके पुतले जलाए. जिसके बाद हमनें नई पार्टी बनाई. प्रशासन और इस सरकार ने जोगी जी के मरणोपरांत भी उनके अंतिम संस्कार में लोगो को शामिल होने से रोका. हमारे नेता के सम्मान से कोई छेड़छाड़ करने की कोशिश करेगा हम ये कभी बर्दाश्त नही करेंगे.कोर कमेटी से बात करके भाजपा को समर्थन दिया गया है ये दोनों विधायक कोर कमेटी में भी नहीं हैं.

Watch LIVE TV-