सांसद के आदर्श ग्राम में बह गए मनरेगा के बांध, एक करोड़ में बने थे, 4 इंच की बारिश में घुल गए

बैतूल के सांसद डीडी उइके ने कांन्हावाड़ी और बांसपुर को गोद लिया था. यहां पर रोजगार गारंटी योजना के तहत चार बांधों का निर्माण कराया गया था. बैतूल में पिछले 20 तारीख से हो रही बारिश ने इन बांधों के निर्माण में हुई भ्रष्टाचार की कलई खोल कर रख दी.

सांसद के आदर्श ग्राम में बह गए मनरेगा के बांध, एक करोड़ में बने थे, 4 इंच की बारिश में घुल गए

इरशाद हिंदुस्तानी/ बैतूल: बैतूल में सांसद के गोद लिए आदर्श ग्राम में बने एक करोड़ की लागत के बांध चार इंच की बारिश भी नही सह सके. कल हुई बारिश में यहां के चार बांध की मिट्टी बह गई. इस घटना ने निर्माण कार्यों की पोल खोल कर रख दी है. सीईओ जिला पंचायत ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं. 

Image preview

बैतूल के सांसद डीडी उइके ने कांन्हावाड़ी और बांसपुर को गोद लिया था. यहां पर रोजगार गारंटी योजना के तहत चार बांधों का निर्माण कराया गया था. बैतूल में पिछले 20 तारीख से हो रही बारिश ने इन बांधों के निर्माण में हुई भ्रष्टाचार की कलई खोल कर रख दी. बांसपुर का डैम 43 लाख की लागत से बनाया गया था. जबकि कान्हावाड़ी में 25 लाख का एक और 14-14 लाख के दो डैम बनाये गए थे. 

मध्य प्रदेश में बारिश का तांडव, खोले गए गेट, कहीं जलमग्न हुईं सड़कें तो कहीं पूरी बस्ती डूबी

ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग इन बांधों की निगरानी कर रहा था. जबकि पंचायतों को इसके बनाये जाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. लेकिन यह एक रात में हुई सिर्फ चार इंच की बारिश भी नहीं सह सके. इस इलाके में 21 अगस्त को 115 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई थी. जबकि एक दिन पहले यहां 55.3 एमएम बारिश हुई थी. दोनों दिनों को मिलाकर 170.3 एमएम यानी आंकड़ा कुल 6 इंच होता है. 

Image preview

इंदौर: लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, शहर के कई हिस्सों में भरा पानी

इतनी कम बारिश में इन संरचनाओं का बह जाना कई सवाल खड़े कर रहा है. इन बांधों के बहने के बाद बचे स्ट्रक्चर को देखने से साफ हो रहा है कि यहां सिर्फ मिट्टी के ढेर खड़े कर दिए गए थे. निर्माण के लिए अपनाये जाने वाले मापदंडों को पूरी तरह दरकिनार किया गया है. इस मामले में जिला पंचायत सीईओ एमएल त्यागी ने ग्रामीण यांत्रिकी विभाग को प्रारंभिक जांच कर रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए हैं. 

WATCH LIVE TV