भय्यूजी महाराज: पहली पत्‍नी की बेटी और दूसरी पत्‍नी के बीच रिश्‍ते नहीं थे मधुर

भय्यूजी महाराज ने पहली पत्‍नी के निधन के बाद दूसरा विवाह किया था.

भय्यूजी महाराज: पहली पत्‍नी की बेटी और दूसरी पत्‍नी के बीच रिश्‍ते नहीं थे मधुर
भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को गोली मारकर खुदकुशी कर ली.(फाइल फोटो)

इंदौर: आध्‍यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि भारी तनाव से तंग आकर खुदकुशी कर रहे हैं. उसके बाद से ही यह सवाल उठ रहे हैं कि आखिर वह कौन सा दबाव था जिसे झेलना भय्यूजी महाराज के लिए असहनीय हो गया? हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स में पारिवारिक विवाद को बड़ी वजह बताया जा रहा है. दरअसल भय्यूजी महाराज ने पहली पत्‍नी के निधन के बाद दूसरा विवाह किया था. पहली पत्‍नी से उनकी एक बेटी कुहू (18) है. वह अपनी बेटी से बेहद प्रेम करते थे. कहा जाता है कि इसकी देखरेख के लिए ही उन्‍होंने मध्‍य प्रदेश में शिवपुरी की डॉ आयुषी शर्मा से दूसरा विवाह किया था.

डियर जिंदगी : भय्यूजी महाराज के सुसाइड नोट के मायने...

बेटी कुहू को यह बात पसंद नहीं आई थी. उसने भय्यूजी महाराज से दूरी बना ली और पुणे में रहने लगी थी. मंगलवार को ही वह पुणे से वापस लौटी थी. इस दौरान बेटी के कमरे में अव्‍यवस्‍था को देखकर उनकी पत्‍नी से बहस भी हुई थी. यह भी कहा जाता है कि दूसरी शादी के बाद पत्‍नी का उनके जीवन में दखल काफी बढ़ गया था. हालांकि विवाद के दौरान वह पत्‍नी की तुलना में बेटी का पक्ष ज्‍यादा लेते थे. इन सब कारणों से जब परिवार में बहस होती थी तो वह काफी व्‍यथित हो जाते थे. कहा जा रहा है कि उन्‍होंने अपनी बेटी के कमरे में ही खुदकुशी की.

MP: इंदौर के आश्रम में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया भय्यूजी महाराज का पार्थिव शरीर

दैनिक भास्‍कर की रिपोर्ट के मुताबिक भय्यूजी महाराज की मौत के बाद यह विवाद खुलकर सामने आ गया है. इस रिपोर्ट के मुताबिक कुहू ने पिता की मौत के लिए सौतेली मां को जिम्‍मेदार ठहराया. बेटी ने कहा कि इन्‍हीं के कारण पिता ने यह कदम उठाया. इनको जेल में बंद कर दीजिए. इस पर पत्‍नी आयुषी ने कहा कि कुहू को मैं और मेरी बेटी पसंद नहीं थी. इसलिए मैं अपनी मां के घर रहने चली गई थी. अब कुहू के पुणे जाने के बाद ही मैं इंदौर आई थी और हम दोनों अच्‍छे से रह रहे थे.

bhaiyyuji maharaj
भय्युजी महाराज ने अपनी सुसाइड नोट में लिखा, 'पारिवारिक जिम्‍मेदारी संभालने के लिए यहां कोई होना चाहिए...मैं बहुत तनाव में हूं. थक चुका हूं, इसलिए जा रहा हूं.'

'भारी तनाव से तंग आ चुका हूं'
इससे पहले इंदौर रेंज के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) अजय शर्मा ने बताया, "भय्यू महाराज ने इंदौर बाइपास रोड स्थित सिल्वर स्प्रिंग्स टाउनशिप में अपने बंगले के एक कमरे में खुद को कैद किया. फिर रिवॉल्वर को अपनी कनपटी पर रखकर ट्रिगर दबा दिया." उन्होंने बताया कि घटना के थोड़ी देर बाद भय्यू महाराज की पत्नी ने कमरे का दरवाजा खटखटाया, तो उस तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई. जब इसे तोड़ा गया, तो भय्यू महाराज लहुलूहान हालत में मिले. उन्हें फौरन बॉम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

भय्यूजी महाराज सुसाइड केस : कांग्रेस ने की सीबीआई जांच की मांग

शर्मा ने बताया कि भय्यू महाराज के घर से छोटी-सी डायरी के पन्ने पर लिखा सुसाइड नोट बरामद किया गया है. इसमें उन्होंने लिखा है कि​ वह भारी तनाव से तंग आकर अपनी जीवनलीला समाप्त कर रहे हैं. 50 वर्षीय आध्यात्मिक संत ने इस पत्र में यह भी लिखा कि किसी न किसी व्यक्ति को उनके परिवार को जिम्मेदारी उठानी चाहिये.

एडीजी ने कहा, "भय्यू महाराज के करीबी लोगों ने हालांकि तसदीक की है कि सुसाइड नोट पर आध्यात्मिक संत की ही लिखावट है. हालांकि, हम हस्तलिपि विशेषज्ञ से इसकी जांच करायेंगे." विजय नगर क्षेत्र के मुक्तिधाम में बुधवार दोपहर एक बजे उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा.