भोपाल को मिली मेट्रो की सौगात, सितंबर में होगा भूमिपूजन

राजधानी भोपाल में मेट्रो की जद्दोजहद पिछले 10 सालों से चल रही है, लेकिन अभी तक इस पर कोई कदम नहीं उठाया गया था.

भोपाल को मिली मेट्रो की सौगात, सितंबर में होगा भूमिपूजन
भोपाल में शुरू होगी मेट्रो ट्रेन (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः राजधानी भोपाल में मेट्रो की जद्दोजहद पिछले 10 सालों से चल रही है, लेकिन अभी तक इस पर कोई कदम नहीं उठाया गया था. लेकिन, अब जल्द ही भोपाल के लोगों को मेट्रो की सौगात मिलने के आसार हैं. हालांकि अभी तक यह तय नहीं हुआ है कि स्टेशन और ट्रेक कहां होंगे. दरअसल, मेट्रो को लेकर हमेशा से ही प्रदेश सरकार विवादों में घिरी रही है. ऐसे में लंबे अरसे से ठंडे बस्ते में पड़ी मेट्रो की फाइल को एक बार फिर चुनावी साल में निकाल लिया है. पिछले कई सालों से राज्य सरकार के लिए मेट्रो का प्रोजेक्ट सिरदर्द बना हुआ है. कभी बजट को लेकर तो कभी दूसरे अन्य नियमों के चलते सरकार मेट्रो पर चंद कदम भी नहीं चल पाई थी, लेकिन चुनावी साल में सरकार एक बार फिर मेट्रो प्रोजेक्ट को अब जमीन पर उतारने की तैयारी कर रही है. 

करीब 280 करोड़ रुपए का टेंडर मेट्रो के पहले चरण के लिए
बता दें मेट्रो को लेकर जो टेंडर पास किया गया है वह सिर्फ स्लैब और पिलर की तर्ज पर पास किया गया है. इसमें अभी तक स्टेशन और ट्रेक का का कोई प्लान शामिल नहीं है. मेट्रो प्रोजेक्ट में तेजी दिखाते हुए मध्य प्रदेश मेट्रो रेल कार्पोरेशन ने भोपाल मेट्रो के लिए टेंडर जारी कर दिया है. करीब 280 करोड़ का टेंडर मेट्रो के पहले चरण के लिए जारी किया गया है. पहले चरण में मेट्रो भोपाल का सुभाषनगर से एम्स अस्पताल तक के सिर्फ 6.225 कि.मी के हिस्से को ही बनाया जाएगा.

मेट्रो पर सियासत
सरकार सितंबर माह में इस प्रोजेक्ट का भूमि पूजन करने की तैयारी कर रही है. नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल की मानें तो जल्द ही मेट्रो का काम शुरू कर दिया जायेगा. सभी जरुरी काम पूरे कर लिए गए हैं. वहीं इस पूरे मामले को लेकर अब सियासत भी तेज हो गई है. कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने आरोप लगाया कि सरकार चुनावी साल में हर वह काम करना चाहती है, जो कभी नहीं किया. मेट्रो का प्रोजेक्ट लंबे अरसे से ठंडे बस्ते में पड़ा था. लेकिन चुनावी चिंता ने सरकार को मेट्रो को जमीन पर लाने के लिए जगा दिया. 

अगस्त में वर्कऑर्डर के बाद डिटेल डिजाइनिंग का काम
दूसरी ओर बीजेपी नेता लोकेंद्र पाराशर ने कहा कि कांग्रेस हमेशा विकास की विरोधी रही है. सरकार विकास करना चाहती है तो कांग्रेस अक्सर रोड़ा बनती है. मेट्रो के मामले में भी कांग्रेस यही कर रही है. जानकारी के मुताबिक टेंडर लेने वाली कंपनी ही डिटेल डिजाइन और सिविल वर्क का भी काम करेगी. अगस्त में वर्कऑर्डर के बाद ही कंपनी डिटेल डिजाइन का काम शुरू कर देगी.