close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भोपाल रेप केसः पीड़िता के परिवार से मिले शिवराज सिंह चौहान, बोले- 'दरिंदे को होनी चाहिए फांसी की सजा'

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 'बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के मामले में आरोपी को फांसी की सजा होनी चाहिए और इन सब के लिए जिम्मेदार दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई होनी चाहिए, उन पर मुकदमा चलना चाहिए.'

भोपाल रेप केसः पीड़िता के परिवार से मिले शिवराज सिंह चौहान, बोले- 'दरिंदे को होनी चाहिए फांसी की सजा'
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फोटो साभारः twitter/@ChouhanShivraj)

भोपालः राजधानी भोपाल में 8 साल की बच्ची के साथ हुई रेप और हत्या के चलते शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव सोमवार को पीड़िता के परिवार से मिलने गए. जहां उन्होंने पीड़िता के साथ हुई घटना पर पीड़िता के परिवार से संवेदनाएं व्यक्त कीं और आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाने की बात कही है. नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के साथ पीड़िता के परिजनों से मिलने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 'बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के मामले में आरोपी को फांसी की सजा होनी चाहिए और इन सब के लिए जिम्मेदार दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई होनी चाहिए, उन पर मुकदमा चलना चाहिए.'

वहीं प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि 'प्रदेश सरकार इन दिनों सिर्फ अपने ट्रांसफर उद्योग में व्यस्त है. पीड़िता के परिवार को 5 लाख की राशि दे देना काफी नहीं है. सरकार को सुनिश्चित करना होगा की आरोपी को उसके कारनामों की सजा मिले. उसे फांसी की सजा होनी चाहिए. मैं मांग करता हूं कि पीड़ित परिवार को पक्का मकान और घर के किसी भी एक सदस्य को रोजगार मिले.' वहीं इन सब के लिए पुलिस पर गुस्सा जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि 'पुलिस अगर गंभीर होती तो बच्ची की जान नहीं जाती. पुलिस वालों ने पीड़ितों की सुनने के बजाय उनके घर जाकर चाय-नाश्ते की इच्छा जाहिर की. यह कैसी पुलिस है.'

देखें लाइव टीवी

मासूम से रेप और हत्या के मामले में पुलिस पर गिरी गाज, लापरवाही बरतने के आरोप में 7 सस्पेंड

उन्होंने आगे कहा कि 'मैं माननीय सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखकर मांग करूंगा की बच्ची से दुष्कर्म कर उसकी हत्या करने वाले इन दरिंदों को अगर फांसी की सजा नहीं होती है तो इन्हें फांसी की सजा दी जाए. मासूम बच्चियों के साथ इस तरह की शर्मनाक हरकतों को अंजाम देने वाले 24 अपराधियों को फांसी की सजा हो चुकी है तो इन्हें अभी तक क्यों नहीं मिली. मैं फास्ट ट्रैक कोर्ट के लिए मैं CJI को भी पत्र लिखूंगा.'

भोपाल में 8 साल की मासूम से बलात्कार के बाद हत्या, नाले में मिला शव

वहीं उन्होंने मांग की है कि यहां झुग्गी बस्तियों की भी जांच की जाए, क्योंकि अक्सर इस तरह के आरोपी अवैध झुग्गियां बनाकर या फिर किराए पर लेकर घटनाओं को अंजाम देने के बाद फरार हो जाते हैं.