राज्यसभा चुनाव: मध्यप्रदेश से धर्मेन्द्र प्रधान सहित पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित

मध्यप्रदेश में राज्यसभा की पांच सीटें खाली थी और उतने ही प्रत्याशी मैदान में थे. इसलिए उन्हें निर्वाचित घोषित कर दिया गया है. 

राज्यसभा चुनाव: मध्यप्रदेश से धर्मेन्द्र प्रधान सहित पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित
नामांकन पत्र वापस लेने का समय समाप्त होने के बाद पांचों प्रत्याशियों को निर्विरोध घोषित कर दिया गया है.(फाइल फोटो)

भोपाल: केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान सहित भाजपा के चार उम्मीदवार एवं कांग्रेस के राजमणि पटेल राज्यसभा के लिए मध्यप्रदेश से आज निर्विरोध निर्वाचित घोषित किये गये. मध्यप्रदेश से निर्विरोध निर्वाचित होने वालों में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत, मीसाबंदी संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष कैलाश सोनी, वरिष्ठ भाजपा नेता अजय प्रताप सिंह और कांग्रेस के राजमणि पटेल शामिल हैं. एक अधिकारी ने बताया कि तीन बजे नामांकन पत्र वापस लेने का समय समाप्त होने के बाद इन पांचों प्रत्याशियों को निर्विरोध घोषित कर दिया गया है.

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में राज्यसभा की पांच सीटें खाली थी और उतने ही प्रत्याशी मैदान में थे. इसलिए उन्हें निर्वाचित घोषित कर दिया गया है. इन पांचों ने 12 मार्च को अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था. गहलोत मध्यप्रदेश से लगातार दूसरी बार राज्यसभा का प्रतिनिधित्व करेंगे, जबकि प्रधान पहली बार मध्यप्रदेश से राज्यसभा भेजे गये हैं.

यह भी पढ़ें- हरियाणा: भाजपा के डीपी वत्स राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुने गए

इससे पहले वह बिहार से राज्यसभा के सदस्य रहे हैं. भाजपा के एक पदाधिकारी ने बताया कि अजय प्रताप सिंह प्रदेश के विन्ध्य क्षेत्र के और कैलाश सोनी प्रदेश के महाकौशल क्षेत्र के रहने वाले हैं. भाजपा को उम्मीद है कि इस साल के अंत में प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में इन दोनों नेताओं से भाजपा विन्ध्य एवं महाकौशल क्षेत्र में और मजबूत होगी.

वहीं, कांग्रेस नेता पटेल भी विन्ध्य क्षेत्र के हैं और ओबीसी है. इस इलाके में करीब 45 प्रतिशत मतदाता ओबीसी हैं. पटेल को राज्यसभा भेजकर कांग्रेस की नजर इन मतों पर है. मध्यप्रदेश में कुल 11 राज्यसभा सीटें हैं, इनमें से आठ सीटों पर भाजपा के प्रतिनिधि हैं और तीन कांग्रेस के पास हैं. 

पांचों उम्मीदवारों का निर्विरोध चुने जाने की थी उम्मीद 
इन पांचों उम्मीदवारों का निर्विरोध चुने जाने की उम्मीद थी. विधानसभा के एक अधिकारी ने बताया था कि वर्तमान में मध्यप्रदेश विधानसभा में 230 सदस्य हैं. इनमें से भाजपा के 165, कांग्रेस के 57, बसपा के चार, निर्दलीय तीन एवं एक मनोनीत सदस्य है. इस हिसाब से राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए हर उम्मीदवार को 39 वोटों की जरूरत होगी. 

भाजपा चार और कांग्रेस एक सीट जीत सकती है. भाजपा के एक पदाधिकारी ने बताया कि अजय प्रताप सिंह प्रदेश के विन्ध्य क्षेत्र के रहने वाले हैं और कैलाश सोनी प्रदेश के महाकौशल क्षेत्र के .  इस साल के अंत में प्रदेश में होने वाले चुनाव के मद्देनजर इन दोनों नेताओं को भाजपा विन्ध्य एवं महाकौशल क्षेत्र में पार्टी के आधार को मजबूत बनाने के लिए राज्यसभा भेज रही है. 

इनपुट भाषा से भी