भोपाल में बन रही गाय के गोबर से गणेश भगवान की मूर्तियां, दूसरे राज्यों से भी आ रहे खरीदार

राजधानी भोपाल के मूर्तिकार कांता यादव इस बार गाय के गोबर से भगवान गणेश की मूर्तियां बना रहे हैं. 

भोपाल में बन रही गाय के गोबर से गणेश भगवान की मूर्तियां, दूसरे राज्यों से भी आ रहे खरीदार
गाय को गोबर से बन रही गणेश जी की मूर्तियां

भोपालः मध्य प्रदेश में गणेश उत्सव की तैयारियां शुरू हो गई है. गणेश चतुर्थी को लेकर शासन-प्रशासन की ओर से लगातार यह गाइडलाइन जारी की जा रही है कि फ्रेंडली गणेश पूजा मनाएं और मूर्तियों में पीओपी का इस्तेमाल ना करें. ताकि पर्यावरणसुरक्षित रहे. ऐसे में राजधानी भोपाल एक मूर्तिकार ने इस बार अनोखे तरीके से गणेश भगवान की मूर्ति बनाना शुरू कर दिया है. 

गाय के गोबर से बना रहे भगवान गणेश की मूर्ति 
दरअसल, राजधानी भोपाल के मूर्तिकार कांता यादव इस बार गाय के गोबर से भगवान गणेश की मूर्तियां बना रहे हैं. जो कि पूरी तरह से इको फ्रेंडली गणेश मूर्ति है. जिसे लोग अपने घरों में गणेश उत्सव के दौरान रख कर भगवान गणेश की पूजा कर सकते हैं. कांता यादव ने बताया कि भगवान गणेश की मूर्तियां बनाने में वह इस बार केवल गोबर का इस्तेमाल कर रहे हैं. खास बात यह है कि यह मूर्तियां सभी साइजों में उपलब्ध हैं. 

दूसरे से राज्यों से आ रही डिमांड 
खास बात यह है कि कांता यादव द्वारा गोबर से तैयार की जा रही भगवान गणेश की इन मूर्तियों की डिमांड सिर्फ मध्यप्रदेश में नहीं बल्कि देश के अन्य राज्यों से भी आ रही है. महाराष्ट्र, गुजरात और उत्तर प्रदेश से मूर्तियों के आर्डर आ चुके हैं. लोग ऑनलाइन इको फ्रेंडली गणेश को ऑर्डर कर रहे हैं. क्योंकि कांता यादव ने ऑनलाइन तरीके से इन मूर्तियों को खरीदने का ऑप्शन दिया है. 

ऐसे में कहा जा सकता है कि जहां आज के इस दौर में जब भारत में गणेश पूजा बड़े स्तर पर मनाया जाता है. ऐसे में इको फ्रेंडली मूर्तियों की बेहद जरूरत है और यह एक अच्छी तस्वीर भी है. कांता यादव ने भी लोगों से पीओपी से बनी मूर्तियां इस्तेमाल नहीं करने की अपील की है. उन्होंने लोगों से मिट्टी या गोबर से बनी मूर्तियां ही अपने घरों और पांडालों में रखने की बात कही है. 

गणेश उत्सव की गाइडलाइन जारी 
वहीं मध्य प्रदेश में गणेश उत्सव को लेकर सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है. कोरोना के चलते इस बार भी पंडालों में सांस्कृतिक, मनोरंजन व खेल के इवेंट, जागरण और भंडारे भी नहीं हो सकेंगे. कोरोना के चलते इस बार सभी आयोजनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. जबकि पांडालों में भीड़ नहीं जुटने के आदेश भी दिए गए हैं. 

ये भी पढ़ेंः 72 घंटे में ट्रिपल मर्डर का खुलासा, चोरी करते जिसने देखा, मौत की नींद सुलाते गया रिश्तेदार

WATCH LIVE TV