छत्तीसगढ़ के स्कूलों में भी पढ़ाया जाएगा संविधान का पाठ, हर सोमवार लगेगी क्लास

बता दें कि महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के बाद स्कूलों में संविधान पढ़ाने वाला छत्तीसगढ़ तीसरा राज्य होगा.

छत्तीसगढ़ के स्कूलों में भी पढ़ाया जाएगा संविधान का पाठ, हर सोमवार लगेगी क्लास
संविधान इस देश में सर्वोपरि है, आज संविधान की रक्षा बड़ी जिम्मेदारी है: सीएम बघेल

रायपुर: छत्तीसगढ़ के शैक्षणिक संस्थाओं में अब हर सोमवार को प्रार्थना के बाद संविधान से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होगी. स्कूल शिक्षा विभाग ने इस संबंध में शुक्रवार को आदेश भी जारी कर दिए हैं.

याद दिला दें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने विधानसभा में संविधान दिवस पर इसकी घोषणा की थी. जारी आदेश के अनुसार, महीने के पहले हफ्ते में संविधान की प्रस्तावना पर चर्चा होगी. वहीं दूसरे सप्ताह में संविधान में उल्लेखित मौलिक अधिकार, तीसरे सप्ताह में मौलिक कर्तव्य और चौथे सप्ताह में राज्य के नीति निदेशक तत्व पर चर्चा आयोजित की जाएगी.

स्कूलों में संविधान का पाठ पढ़ाए जाने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि हर नागरिक को संविधान के बारे में जानना चाहिए. संविधान इस देश में सर्वोपरि है. आज संविधान की रक्षा बड़ी जिम्मेदारी है. बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, 'आज संविधान को छेड़ा जा रहा है, उसका विरुद्ध किया जा रहा है.'

मध्य प्रदेश के स्कूलों में भी पढ़ाया जाएगा संविधान

बता दें कि महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के बाद स्कूलों में संविधान पढ़ाने वाला छत्तीसगढ़ तीसरा राज्य होगा. इससे पहले पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने भी स्कलों में बच्चों को संविधान का पाठ कराने का निर्णय लिया है. सप्ताह के आखिरी दिन यानी शनिवार को बच्चों के बीच संविधान पर चर्चा कराई जाएगी और प्रस्तावना का पाठ कराया जाएगा. इस संबंध में कमलनाथ सरकार का कहना था कि स्कूलों में संविधान का पाठ इसलिए पढ़ाया जाएगा ताकि बच्चों में इसके प्रति समझ पैदा हो सके और वे देश की संवैधानिक व्यवस्था को समझ सकें.

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के स्कूलों में पढ़ाया जाएगा संविधान, कमलनाथ सरकार ने जारी किया आदेश