भूपेश सरकार ने की राशन दुकानों को तिरंगे में रंगने की तैयारी, BJP ने उठाए सवाल

इस पूरे मुद्दे पर कांग्रेस ने भी पलटवार किया और कहा कि 60 सालों तक RSS मुख्यालय पर तिरंगा न फहराने वाली बीजेपी उन्हें सीख न दे.

भूपेश सरकार ने की राशन दुकानों को तिरंगे में रंगने की तैयारी, BJP ने उठाए सवाल
कांग्रेस ने बताया कि राशन की दुकानों पर तिरंगे के रंग की तरह पुताई होगी. जिससे दूर से भी लोग राशन की दुकानों को देख सकेंगे.

रायपुर: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की भूपेश सरकार ने अब राशन की दुकानों को तिरंगे के रंग में रंगने की तैयारी कर ली है. इसके साथ ही राशन की दुकानों को CCTV से लैस किया जाएगा. खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने बताया कि अगले 1 महीने में राशन की दुकानों को राष्ट्रीय ध्वज की तरह केसरिया, सफेद और हरे रंग में रंगा जाएगा. जिसके लिए सभी कलेक्टर्स को मॉडल का प्रारूप भेज दिया गया है. बता दें कि प्रदेश में 3182 राशन की दुकाने हैं.

फैसले को लेकर BJP ने सरकार की मंशा पर उठाए सवाल
राशन की दुकानों को तिरंगे के रंग में रंगने के फैसले पर विवाद शुरू हो गया है. इस फैसले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह (Raman Singh) ने कांग्रेस की मंशा पर सवाल उठाए हैं. रमन सिंह ने कहा कि कांग्रेस राशन की दुकानों का राजनीतिकरण और कांग्रेसीकरण करना चाहती है. इसलिए ये फैसला लिया, ये कहीं से भी ठीक नहीं है. बीजेपी की मांग है कि इस पर अशोक चक्र भी लगाया जाए. क्योंकि कांग्रेस पार्टी का झंडा भी तिरंगे से मिलता जुलता है. वहीं, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भी सरकार को घेरा और कहा कि राशन की दुकानों पर तिरंगा नहीं बल्कि कांग्रेस के झंडे की पुताई कर कांग्रेसीकरण की कवायद है.

फैसले के बाद उठे विवाद पर कांग्रेस का पलटवार
इस पूरे मुद्दे पर कांग्रेस ने भी पलटवार किया और कहा कि 60 सालों तक RSS मुख्यालय पर तिरंगा न फहराने वाली बीजेपी उन्हें सीख न दे. कांग्रेस ने बताया कि राशन की दुकानों पर तिरंगे के रंग की तरह पुताई होगी. जिससे दूर से भी लोग राशन की दुकानों को देख सकेंगे. वहीं, अशोक चक्र लगाने की मांग पर कांग्रेस ने कहा कि ये तकनीकी रूप से गलत है.