अंतर्कलह से बचने के लिए छत्तीसगढ़ BJP में एक-एक कर बांटी जा रही है जिम्मेदारी

राज्य में कोर टीम के बीच कई पदों के लिए नामों पर एक राय ही नहीं बन पाई है. इस बीच खबर ये भी है कि 15 साल की सत्ता में जो भागीदार रहे हैं उन्हें फिर से संगठन में फिट बैठाने का भी विरोध किया जा रहा है. पार्टी के भीतर ही कुछ नेता इस बात के खिलाफ हैं. ऐसे में विष्णुदेव साय के लिए जल्द कार्यकारिणी घोषित करना टेढ़ी खीर है. 

अंतर्कलह से बचने के लिए छत्तीसगढ़ BJP में एक-एक कर बांटी जा रही है जिम्मेदारी
सांकेतिक तस्वीर

सत्य प्रकाश/रायपुर: छत्तीसगढ़ में अंतर्विरोध से बचने के लिए बीजेपी प्रदेश संगठन हाईकमान ने नियुक्तियों का नया फॉर्मूला निकाला है. संगठन में अब एक साथ नहीं बल्कि एक-एक नियुक्तियां की जा रही हैं. पिछले 2 हफ्ते में एक-एक कर 3 जिला अध्यक्षों की नियुक्ति हो चुकी हैं. जिसके बाद अब रायपुर सहित 9 जिलों के अध्यक्ष और कार्यकारिणी में नियुक्ति होना बाकी है. 

जानकारी के मुताबिक राज्य में कोर टीम के बीच कई पदों के लिए नामों पर एक राय ही नहीं बन पाई है. इस बीच खबर ये भी है कि 15 साल की सत्ता में जो भागीदार रहे हैं उन्हें फिर से संगठन में फिट बैठाने का भी विरोध किया जा रहा है. पार्टी के भीतर ही कुछ नेता इस बात के खिलाफ हैं. ऐसे में विष्णुदेव साय के लिए जल्द कार्यकारिणी घोषित करना टेढ़ी खीर है. 

ये भी पढ़ें-MP:जेल में बंद कैदियों के लिए बड़ी सौगात, महीनों बाद कर सकेंगे परिजनों  से ई-मुलाकात

दरअसल विष्णुदेव साय प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद बड़े राजनीतिक मुद्दों पर भी सक्रिय नजर नहीं आ रहे हैं. ऐसे में प्रदेश बीजेपी के सामने एक बड़ी चुनौती ये भी है कम से कम साय की टीम अग्रेसिव हों. लेकिन आपसी गुटबाजी की वजह से अबतक ऐसा होता दिख नहीं रह है.

हालांकि इसपर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक का कहना है,"कोई कन्फ्यूजन की स्थिति नहीं है, अभी जिलों में एक-एक कर नियुक्तियां हो रही है, जल्द ही इन नियुक्तियों की बाद कार्यकारिणी की घोषणा भी होगी.''

वहीं इन सब पर कांग्रेस चुटकी लेती नजर आ रही है. कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है,"सत्ता की गोंद से जुड़ी भाजपा में आपसी लड़ाई साफ नजर आ रही है, नियुक्तियों को लेकर कार्यकर्ता नाराज हैं, प्रदेश में बीजेपी बिखराव के दौर से गुजर रही है."

Watch LIVE TV-