2019 से पहले मप्र, राजस्थान में कांग्रेस को मिल सकती है सत्ता, भाजपा को लगेगा झटका- सर्वे

भाजपा को 2019 में होने वाले आम चुनाव से पहले चार राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों में दो राज्यों में झटका लग सकता है.

2019 से पहले मप्र, राजस्थान में कांग्रेस को मिल सकती है सत्ता, भाजपा को लगेगा झटका- सर्वे
कर्नाटक चुनाव के बाद बने हालात के बाद कांग्रेस दूसरे दलों को साथ मिलाने की कोशिश कर रही है. फोटो : आईएएनएस

नई दिल्ली : भले 2019 में होने वाले आम चुनाव में अभी एक साल का समय बचा हो, लेकिन कर्नाटक चुनाव के नतीजों ने काफी हद तक राजनीति की दशा और दिशा तय कर दी है. जिस तरह से कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में एक दूसरे विरोधी रहे नेता एक दूसरे का हाथ थामे नजर आए, उससे ये तो तय हो गया है कि अगले साल होने वाले चुनावों में भाजपा की राह आसान नहीं रहने वाली है. इन्हीं हलचल के बीच खबर आ रही है कि भाजपा को 2019 में होने वाले आम चुनाव से पहले चार राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों में दो राज्यों में झटका लग सकता है.

केंद्र सरकार ने सत्ता में अपने 4 साल पूरे कर लिए हैं. ऐसे में देश की जनता का मूड पता करने के लिए एबीपी न्यूज और लोकनीति-सीएसडीएस का सर्वे किया है. इसके अनुसार 2019 के चुनाव से पहले मप्र, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में चुनाव होने हैं. यहां सबसे बड़ा झटका भाजपा को लग सकता है. इन चार में से दो राज्यों मप्र और राजस्थान में भाजपा की सरकार जा सकती है और कांग्रेस सत्ता में आ सकती है. खासकर मप्र से भाजपा के लिए बुरी खबर है, क्योंकि अभी तक यह माना जा रहा था कि मप्र में तमाम विरोध के बावजूद कांग्रेस, भाजपा को सत्ता से बाहर नहीं कर पाएगी.

कर्नाटक: वोटिंग से ठीक पहले बीजेपी ने वापस लिया नाम, कांग्रेस के रमेश कुमार बन गए स्पीकर

अब इस सर्वे के अनुसार, अगर मध्यप्रदेश और राजस्थान में आज चुनाव कराए जाएं तो यहां से भाजपा की सरकार जा सकती है. मध्यप्रदेश में बीजेपी के वोट प्रतिशत में बड़ी गिरावट आ सकती है. 2018 में बीजेपी का वोट शेयर घटकर 34 फीसदी रह सकता है जो कि 2013 में हुए चुनाव में 45 फीसदी रहा था. इस तरह भाजपा के वोट प्रतिशत में 11 फीसदी की गिरावट देखने को मिल रही है.

कांग्रेस को ऐसे होगा बड़ा फायदा
मध्यप्रदेश में कांग्रेस का वोट शेयर बढ़कर 49 फीसदी हो सकता है जो साल 2013 में 36 फीसदी पर अटका हुआ था. इस तरह उसे 13 फीसदी का फायदा हो रहा है.  बीएसपी का वोट प्रतिशत 5 फीसदी हो सकता है जो 2013 में 6 फीसदी था और अन्य के खाते में 12 फीसदी वोट प्रतिशत जा सकता है जो साल 2013 में 13 फीसदी रहा था.

राजस्थान में भाजपा का हो सकता है बुरा हाल
अगर आज चुनाव हुए तो मप्र के साथ साथ भाजपा को राजस्थान में भी बड़ा झटका लग सकता है. अभी हाल में हुए अलवर और अजमेर लोकसभा के उपचुनावों में इसकी एक झलक भी मिली थी. सर्वे के अनुसार, राजस्थान में कांग्रेस 44 फीसदी वोट शेयर के साथ नंबर वन पार्टी बन सकती है. बीजेपी 39 फीसदी वोट शेयर के साथ दूसरे नंबर की पार्टी बन सकती है. अन्य के खाते में 13 फीसदी वोट जा सकते हैं. 2013 से तुलना करें तो इस बार भाजपा को छह फीसदी के वोट शेयर का नुकसान हो रहा है. कांग्रेस को लगभग 11% वोट शेयर का बड़ा फायदा हो रहा है.