close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'गांव चलो-घर चलो' कैंपेन चलाकर आए थे चर्चा में राकेश सिंह, ऐसा रहा सियासी सफर

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ-साथ बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है. 

'गांव चलो-घर चलो' कैंपेन चलाकर आए थे चर्चा में राकेश सिंह, ऐसा रहा सियासी सफर
जबलपुर से तीन बार से सांसद राकेश सिंह राज्य में एक बार फिर से कमल खिलाने के लिए पूरी ताकत झोंके हुए हैं.

भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ-साथ बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है. पार्टी ने उन्हें छह माह पहले ही नंदकुमार सिंह चौहान को हटाकर प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी सौंपी थी. जबलपुर से तीन बार से सांसद राकेश सिंह राज्य में एक बार फिर से कमल खिलाने के लिए पूरी ताकत झोंके हुए हैं. राकेश सिंह को केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और सीएम शिवराज सिंह चौहान का भी करीबी माना जाता है. आइए एक नजर उनके सियासी सफर पर डाल लेते हैं: 

राकेश सिंह का जन्म चार जून 1962 को मध्यप्रदेश के जबलपुर में हुआ था. किसान परिवार से हैं. 1978 में साइंस कॉलेज की कार्यकारिणी के सदस्य चुने गए.  फिर 1980 में इसी कॉलेज में विश्वविद्यालय प्रतिनिधि बने. 1994 में जबलपुर टिम्बर मर्चेन्ट्स एण्ड सॉ मिल ओनर्स एसोसिएशन की कार्यकारिणी का चुनाव जीता. फिर 1999 में हुए विधानसभा चुनाव में बरगी विधानसभा क्षेत्र के भारतीय जनता पार्टी के चुनाव संचालक बने. साल 2000 में वे भारतीय जनता पार्टी जिला जबलपुर के अध्यक्ष बने. जबलपुर में भाजपा अध्यक्ष (ग्रामीण) रहने के दौरान 'गांव चलो – घर चलो' कैंपेन चलाया था जिसे पार्टी ने देशभर में लागू किया था. 

2004 में जीता पहला लोकसभा चुनाव
2004 में पार्टी ने राकेश सिंह को जबलपुर से लोकसभा का टिकट दिया और उन्होंने इस चुनाव में जीत हासिल की. 2007 में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पर्यावरण और वन संबंधी स्थायी समिति के सदस्य बने. फिर 2009 में परिवहन, पर्यटन तथा संस्कृति संबंधी स्थायी समिति के सदस्य बने. 2009 और फिर 2014 में वह लगातार भाजपा की टिकट से चुनाव लड़े और सांसद बने. जून 2014 में उन्हें आवास समिति और विशेषाधिकार समिति का सदस्य बनाया गया. 

Rakesh singh

2014 का चुनाव जीतकर पार्टी में बनाई पैठ
साल 2014 के लोकसभा चुनाव में राकेश सिंह का सामना कांग्रेस के कद्दावर प्रत्याशी विवेक तन्खा से था. राकेश सिंह ने उन्हें शिकस्त देकर पार्टी में गहरी पैठ बना ली. राकेश सिंह को पार्टी ने राष्ट्रीय कार्यसमिति में सदस्य बनाकर सम्मानित किया. पार्टी ने विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही उन्हें बड़ी जिम्मेदारी सौंपकर प्रदेश अध्यक्ष बनाया.