close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PUBG की लत ने ली 17 साल के लड़के की जान, गेम खेलते-खेलते आया हार्ट अटैक और...

नीमच के पुर्व पार्षद हारुन रशीद कुरैशी का बेटा फारुख उर्फ छोटू अपने मोबाइल पर पब्जी गेम खेल रहा था. गेम खेलते-खेलते वह इसमें इतना रम गया कि फारुख को दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गई. बच्चे की गेम खेलते-खेलते हुई अचानक इस हालत से हर कोई हैरान है.

PUBG की लत ने ली 17 साल के लड़के की जान, गेम खेलते-खेलते आया हार्ट अटैक और...
गेम खेलते-खेलते पहले भी आ चुका था अटैक (फाइल फोटो)

प्रितेश सारड़ा/नीमच: देश में इन दिनों युवाओं और बच्चों के बीच पब्जी गेम का क्रेज बढ़ता ही जा रहा है. देश में इस गेम को खेलने के लिए महिला से लेकर युवा भी इसमें पीछे नहीं है. जिसके चलते यह कई जगहों पर समस्या बन गया है. पब्जी गेम की वजह से चोरी और हत्या जैसी घटनाएं बढ़ने लगी हैं. वहीं बच्चे पढ़ाई और दूसरे बच्चों के साथ खेलना छोड़कर इसी गेम में डूब गए हैं और पब्जी की बुरी लत इनके स्वास्थ्य और दिमाग पर बुरा असर डाल रही है. इसी क्रम में नीमच में पब्जी को लेकर हैरान करने देनें वाली घटना सामने आई है. 

नीमच में पब्जी गेम खेलने की वजह से 12वीं में पढ़ने वाले 17 साल के एक छात्र की मौत हो गई है. दरअसल, नीमच के पुर्व पार्षद हारुन रशीद कुरैशी का बेटा फारुख उर्फ छोटू अपने मोबाइल पर पब्जी गेम खेल रहा था. गेम खेलते-खेलते वह इसमें इतना रम गया कि फारुख को दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गई. बच्चे की गेम खेलते-खेलते हुई अचानक इस हालत से हर कोई हैरान है. घर वाले भी यही सोचते रहे कि आखिर गेम खेलते-खेलते ऐसा क्या हुआ कि फारुख को हार्ट अटैक आ गया.

गुजरात के इस शहर में 9 मार्च से नहीं खेल पाएंगे PUBG, पुलिस कमिश्‍नर ने जारी किया नोटिफिकेशन

फारुख के परिजनों ने बताया कि फारुख घर पर ही पब्जी गेम खेल रहा था. इसी दौरान वह अचानक से बेहोश हो गया, ऐसे में फारुख की यह हालत देख सभी हैरान रह गए. किसी को समझ नहीं आया कि आखिर फारुख को हुआ क्या है. ऐसे में घरवाले उसे लेकर अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टर्स ने बताया कि फारुख को दिल का दौरा पड़ा है और डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया. 

रेलवे ट्रैक पर PUBG खेल रहे थे दो शख्स, सामने से आ रही थी ट्रेन और...

परिजनो ने बताया की फारुख को इससे पहले भी गेम खेलते-खेलते हार्ट अटैक आ चुका है. फारुख नसीरबाद में सेन्ट्रल स्कूल का कक्षा 12वीं का छात्र था. दो दिन पहले ही वह अपने चचेरे भाई के लगन कार्यक्रम में शमिल होने के लिए परिवार के साथ नीमच आया था और यह सब हो गया. फारुख की मौत के बाद पूरे परिवार में जहां उत्सव का माहौल था अब मातम में बदल गया है.