close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बजट 2019 को CM बघेल ने बताया निराशाजनक, बोले- नक्सल प्रभावित जिलों को कुछ नहीं मिला

CM बघेल ने कहा कि 'धान के समर्थन मूल्य में 65 रुपये की वृद्धि ऊंट के मुह में जीरा है. रेलवे को भी पीपीटी मॉडल के रूप में ले जा रहे हैं. सबसे बड़े रोजगार का जरिया है रेल जिसे प्राइवेट सेक्टर में ले जाने से लोगों से रोजगार छिन जायेगा.'

बजट 2019 को CM बघेल ने बताया निराशाजनक, बोले- नक्सल प्रभावित जिलों को कुछ नहीं मिला
प्रति किसान 6 हजार के बदले 12 हजार देने का निवेदन और उम्मीद हमने सरकार से की थी. CM बघेल (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः केंद्र सरकार की ओर से केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला पूर्ण आम बजट (Budget 2019) पेश किया, जिसे लेकर अब विभिन्न राजनीतिक दलों की प्रतिक्रियाएं भी आना शुरू हो गई हैं. ऐसे में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है. बजट 2019 को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने निराशाजनक बताते हुए कहा कि 'बजट में हर वर्ग का ख्याल नहीं रखा गया है. बजट के बाद मंहगाई बढ़ेगी और मध्यमवर्ग को आयकर में कोई राहत नहीं दी गई है. युवाओं को रोजगार का अवसर कैसे दिए जाएंगे, इसके भी कोई संकेत नहीं दिए गए हैं.'

CM बघेल ने कहा कि 'धान के समर्थन मूल्य में 65 रुपये की वृद्धि ऊंट के मुह में जीरा है. रेलवे को भी पीपीटी मॉडल के रूप में ले जा रहे हैं. सबसे बड़े रोजगार का जरिया है रेल जिसे प्राइवेट सेक्टर में ले जाने से लोगों से रोजगार छिन जायेगा. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिलों के लिए कुछ खास नहीं है. जो आकांक्षिक जिले हैं वहां भी कुछ नहीं है उन जिलों मे रमन सिंह जी का भी जिला आता है. यह बेहद निराशाजनक बजट है. प्रति किसान 6 हजार के बदले 12 हजार देने का निवेदन और उम्मीद हमने सरकार से की थी, लेकिन प्रधानमंत्री ने किसान सम्मान निधि में इसे शामिल नहीं किया है.'

देखें वीडियो

बजट में अमीरों पर Tax का बोझ बढ़ा, 2 से 5 करोड़ तक की सालाना आय पर 3% अतिरिक्‍त टैक्‍स लगेगा

उन्होंने आगे कहा कि 'सड़क बनाने के लिए स्टेट शेयर खासकर नक्सल क्षेत्रों में स्टेट शेयर जो शत प्रतिशत था उसे 60/40 का रेशियो कर दिया गया था. गांधी जी के नाम पर सिर्फ प्रचार कर रहे हैं. नक्सल प्रभावित जिलों के गांवों में अंतिम व्यक्तियों को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिले इस तरह का कोई काम नहीं दिखाई दिया इसए प्रचार ही दिख रहा है. अभी तक कौशल उन्नयन योजना जो आपने लागू की उनसे कितनों को रोजगार मिला ये आंकड़े भी आप नहीं बता पाये. जब तक छोटे उद्योगपतियों मध्यम उद्योगपतियों के लिए योजना नहीं बढ़ाएंगे तब तक रोजगार नही बढ़ेगा.'

Video: बजट 2019 पर किसी ने जताई खुशी तो कोई हुआ नाराज, जानें किसने क्या कहा

CM बघेल ने कहा कि 'सिर्फ योजनाओं का नाम बदलने से कुछ नहीं होता आप सिर्फ नाम बदल रहे है योजना वही है. पेट्रोल डीजल के दामों में भी कोई कमी नहीं की गई, उनके दाम बढ़ेंगे. इससे सभी चीजों की महंगाई बढ़ेगी. आमजन इस बजट से खुद को ठगा महसूस कर रहा है. आमजन के लिए इस बजट में कुछ नही है, यह महंगाई बढ़ाने वाला बजट है. इस बजट में अभी भी 2022-2024 में सबको घर-बिजली सहित कई सपने दिखाये गये हैं. मध्यम वर्ग के लिये आयकर में कोई राहत प्रदान नहीं की गई है. किसानो की आय बढ़ाने के लिये, उन्हें कर्ज से राहत के लिये इस बजट में कुछ नहीं है.'