नुकसान की भरपाई के लिए बिजनेस प्लान तैयार, व्यापारियों से संपर्क साधने में जुटे रेल अधिकारी

  कोरोना काल की वजह से रेलवे को करोड़ों का नुकसान उठाना पड़ा है. इस नुकसान की भरपाई के लिए रेलवे ने नया बिजनेस प्लान लागू किया है.

नुकसान की भरपाई के लिए बिजनेस प्लान तैयार, व्यापारियों से संपर्क साधने में जुटे रेल अधिकारी
फाइल फोटो

कर्ण मिश्रा/जबलपुर: कोरोना की वजह से रेलवे को करोड़ों का नुकसान उठाना पड़ा है. इस नुकसान की भरपाई के लिए रेलवे ने नया बिजनेस प्लान लागू किया है. रेल मंत्रालय ने अपने सभी जोन और मंडल स्तर के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे अपने डिवीजन के उन व्यापारियों और व्यापारी संगठनों से सीधा संपर्क करें जो अभी तक माल भेजने के लिए रेल मार्ग का उपयोग नहीं कर रहे हैं.

व्यापारियों से संपर्क साधने में जुटे अधिकारी 
रेल मंत्रालय ने निर्देश दिया कि अधिकारी व्यापारियों और किसानों के पास जाकर सीधी बातचीत करें और उन्हें बताएं कि सड़क की बजाय रेल मार्ग से माल भेजना ज्यादा सस्ता पड़ेगा. इसके साथ ही उनके माल को सुरक्षित गंतव्य तक पहुंचाया जाएगा. रेल मंत्रालय के इस आदेश के बाद पश्चिम मध्य रेल जोन के अंतर्गत आने वाले भोपाल, जबलपुर और कोटा रेल मंडल के अधिकारी व्यापारियों से संपर्क साधने लगे हैं और उन्हें रेल मार्ग से माल भेजने के लिए मना रहे हैं. 

किसान और व्यापारी  बेहद उत्साहित
पश्चिम मध्य रेल जोन की मुख्य जनसंपर्क अधिकारी प्रियंका दीक्षित ने बताया कि रेल अधिकारियों ने किसानों और व्यापारियों को आश्वासन दिया है कि उनके माल को नियत स्थान तक पहुंचाने में देरी नहीं होगी और ना ही उनका माल स्टेशन पर बहुत देर तक रोका जाएगा. इस आश्वासन से किसान और व्यापारी अब बेहद उत्साहित हैं.

‘समय पर होती है माल की डिलीवरी’ 
प्रियंका दीक्षित ने बताया कि प्रत्येक स्टेशन पर रेलवे के वाणिज्य अधिकारी और स्टाफ को तैनात किया गया है. उनके टेलीफोन नंबर भी व्यापारियों और किसानों तक भेजे जा रहे हैं जिससे अधिकारियों से सीधा संपर्क हो सके और माल को तुरंत ट्रेनों में रखा जा सके. इसके साथ ही जिस स्टेशन पर डिलीवरी होनी है वहां पर भी अधिकारियों की निगरानी में माल को तुरंत उतारा जा रहा है और उसे व्यापारियों, किसानों को सौंपा जा रहा है.

ये भी पढ़ें : MP: महिला ने नर्स पर लगाया डिलीवरी के दौरान VIDEO बनाने का आरोप, कलेक्टर से की शिकायत

मुख्य जनसंपर्क अधिकारी के मुताबिक निगरानी होने की वजह से अब माल को लाने और ले जाने में दलालों की भूमिका खत्म हो गई है. रेल मंत्रालय के इस बिजनेस प्लान से मालगाड़ियों में माल की लदान में जबरदस्त इजाफा हुआ है. रेल अधिकारियों को उम्मीद है कि माल गाड़ियों के संचालन में वृद्धि के साथ ही माल की लगान में और इजाफा होगा जिससे रेल मंत्रालय को कोरोना की वजह से हुए घाटे से उबरने में मदद मिलेगी.

WATCH LIVE TV