CAA-NRC से सबसे ज्यादा छत्तीसगढ़ के आदिवासी प्रभावित होंगे- CM भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए एक खास कार्यक्रम में सीएम भूपेष बघेल ने CAA और NRC पर केंद्र की बीजेपी सरकार को घेरा. उन्होंने कहा कि, इसका सबसे ज्यादा असर छत्तीसगढ़ के आदिवासियों पर पड़ेगा.

CAA-NRC से सबसे ज्यादा छत्तीसगढ़ के आदिवासी प्रभावित होंगे- CM भूपेश बघेल
हमने पहले विश्वास, फिर विकास और फिर सुरक्षा की बात की-भूपेश बघेल

दंतेवाड़ा: जी मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ के खास कार्यक्रम 'बस्तर से गणतंत्र की बात' में सीएम भूपेश बघेल शामिल हुए. उन्होंने बस्तर के विकास और अगले 4 साल का रोडमैप बताया. बस्तर में विकास को लेकर कहा कि पहले की सरकारें सुरक्षा की बात करती थीं, लेकिन बस्तर के लोगों से संवाद नहीं करती थीं. हमने पहले विश्वास, फिर विकास और फिर सुरक्षा की बात की. इससे लोगों में सरकार के प्रति विश्वास जागा.

कार्यक्रम में सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि, नक्सलवाद बस्तर की समस्या है, लेकिन नक्सलवादियों के नाम पर गांव के लोगों को परेशान नहीं किया जाना चाहिए. उन्होंने सवाल उठाए कि नक्सलियों के पास एके 47 कहां से आती हैं. उनके पास कारतूस और आधुनिक तकनीक कहां से आती है? उन्होंने कहा कि देश के कई राज्यों और विदेशों से नक्सलियों को फंडिंग होती है. ऐसी चीजों पर रोक केंद्र सरकार को लगानी चाहिए. 

सीएम भूपेश बघेल ने CAA और NRC पर भी सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि NRC से सबसे ज्यादा प्रभावित बस्तर के आदिवासी होंगे. छत्तीसगढ़ में 32 फीसदी आदिवासी रहते हैं. वो NRC-NPR के लिए सर्टिफिकेट कहां से बनवा पाएंगे. क्योंकि उनके पास न तो जमीन और न ही अपने माता-पिता के गांवों की जानकारी है. सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि, पहले की सरकारों ने बस्तर के लिए कुछ नहीं किया. यहां के लोगों को आत्मनिर्भर और शिक्षित बना दिया जाए. फिर यहां की सारी समस्याएं खत्म हो जाएंगी. वहीं उन्होंने झीरम घाटी हत्याकांड को राजनीतिक साजिश करार दिया. उन्होंने कहा कि हम इसका पर्दाफाश करना चाहते हैं. इसके लिए जांच कमेटी गठित की जाएगी.