close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: हनी ट्रैप गैंग लिपस्टिक और चश्मों पर फिट करता था कैमरा, ऐसे होती थी ब्लैकमेलिंग

इस हाइप्रोफाइल केस में नेताओं से लेकर सरकारी अफसरों तक का नाम सामने आया है जिसके बाद से इस केस में रोज नए खुलासे हो रहे हैं. इसी बीच हनी ट्रैप गैंग से पूछताछ में हुआ बड़ा खुलासा है. 

MP: हनी ट्रैप गैंग लिपस्टिक और चश्मों पर फिट करता था कैमरा, ऐसे होती थी ब्लैकमेलिंग
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: इंदौर का हनी ट्रैप मामला इन दिनों लगातार चर्चा में बना हुआ है. इस हाइप्रोफाइल केस में नेताओं से लेकर सरकारी अफसरों तक का नाम सामने आया है जिसके बाद से इस केस में रोज नए खुलासे हो रहे हैं. इसी बीच हनी ट्रैप गैंग से पूछताछ में हुआ बड़ा खुलासा है. इस गैंग की लीडर नेताओं और अफसरों के फोन टेप करा रही थी. सूत्रों से सामने आई खबर के मुताबिक बेंगलुरू की निजी कंपनी के जरिए नेता और अफसरों के फोन पर नजर रखी जा रही थी. इतना ही नहीं ब्लैकमेलिंग के लिए लिपस्टिक और चश्मों में कैमरे फिट किए जाते थे ताकि उससे विक्टिम के वीडियो बनाए जा सकें. 

सूत्रों के मुताबिक बेंगलुरू की निजी कंपनी से साइबर सिक्योरिटी, साइबर फोरेंसिक और फोन सिक्योरिटी के काम सारे काम कराए गए. इतना ही नहीं चैटिंग, एसएमएस के साथ ही कॉल रिकॉर्ड भी कराए गए. इस मामले से जुड़े अफसरों की जानकारी हासिल करने में SIT पूरी तरह जुट गई है. हनी ट्रैप गैंग मोबाइल डेटा के जरिए अफसरों को ब्लैकमेल कर ठेके और नौकरियां दिलाने का काम करता था. 

हनीट्रैप कांड से जुड़ी जानकारी जुटाने के लिए SIT ने बनाई ईमेल आईडी

बता दें कि जांच कर रही टीम को गैंग से जुड़ी कई गुमनाम शिकायतें लगातार मिल रही हैं. शिकायतें SIT, पुलिस मुख्यालय और सीएम सचिवालय पहुंच रही हैं. हनी ट्रैप कांड की जांच कर रही एसआईटी (विशेष जांच दल) ने हर छोटे-बड़े शहर, व गांवों में फैले किरदारों तक पहुंचने की रणनीति पर काम शुरू कर दिया है और इसके लिए उसने एक ईमेल आईडी बना दी है, जिस पर कोई भी व्यक्ति कहीं से भी इस तरह के अनैतिक कारोबार में शामिल लोगों के बारे में जानकारी दे सकता है. हनीट्रैप कांड की जांच के लिए एसआईटी ने तेजी से काम करना शुरू कर दिया है. इस टीम के प्रमुख का कहना है कि जिसका अपराध पाया जाएगा, उसके नाम सामने आएंगे.