close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

CG: घूसखोरी की शिकायत पर PF ऑफिस में CBI का छापा, हिरासत में लिया गया सहायक आयुक्त

सीबीआई के 12 से अधिक अधिकारियों और कर्मचारियों ने पीएफ ऑफिस पर छापा मारा. सीबीआई ने पीएफ ऑफिस के कई कर्मचारियों से पूछताछ की और ऑफिस फाइलों और दस्तावेजों की जांच की.

CG: घूसखोरी की शिकायत पर PF ऑफिस में CBI का छापा, हिरासत में लिया गया सहायक आयुक्त
फाइल फोटो

रायपुरः सीबीआई ने गुरुवार को रायपुर के एक पीएफ ऑफिस में छापा मारा, जहां सीबीआई ने रायपुर के पीएफ ऑफिस में सहायक आयुक्त के पद पर नियुक्त प्रकाश कुमार साहू को गिरफ्तार कर लिया है. सीबीआई ने प्रकाश कुमार को घूसखोरी के आरोप में हिरासत में लिया है. गुरुवार को अचानक ही सीबीआई के 12 से अधिक अधिकारियों और कर्मचारियों ने पीएफ ऑफिस पर छापा मारा. इस दौरान सीबीआई ने पीएफ ऑफिस के कई कर्मचारियों से पूछताछ की और ऑफिस फाइलों और दस्तावेजों की जांच की, जिसके बाद सीबीआई ने प्रकाश कुमार को हिरासत में ले लिया.

OMG! इनकम टैक्स की रेड में मिला इतना कैश और गोल्ड, उड़ गए अफसरों के होश

मिली जानकारी के मुताबिक प्रकाश कुमार साहू ने दुर्ग के एक राइस मिलर मुकेश वाधवानी से 50 हजार रिश्वत मांगी थी, मुकेश ने सीबीआई में इसकी शिकायत करते हुए बताया था कि प्रकाश कुमार साहु ने काम करवाने के एवज में 50 हजार रिश्वत की मांग की थी, जिसकी एक किश्त मुकेश वाधवानी प्रकाश को दे चुके हैं. जिसके बाद सीबीआई ने पीएफ ऑफिस में छापा मारने की रणनीति बनाई और दोपहर के समय 12 ऑफिसर्स और कर्मचारियों की टीम के साथ सीबीआई पीएफ ऑफिस पहुंच गई और वहां मौजूद कर्मचारियों से पूछताछ शुरू कर दी.

पकौड़ेवाले के यहां इनकम टैक्स की रेड, दिन भर पकौड़े गिने, 60 लाख रुपये वसूले

सभी से पूछताछ करने के बाद शाम के समय सीबीआई प्रकाश कुमार साहु को गिरफ्तार कर लिया. दरअसल, दुर्ग के हरिओम राइस मिल संचालक मुकेश वाधवानी ने बताया कि उन्हें पीएफ ऑफिस में कुछ काम था, जिसे करवाने के लिए उन्होंने पीएफ ऑफिस के सहायक आयुक्त प्रकाश कुमार साहु से बात की, जिसे करने के लिए प्रकाश कुमार ने उनसे 50 हजार रुपये की रिश्वत की मांग की. इस पर मुकेश वाधवानी ने प्रकाश कुमार को 25 हजार रुपये दे भी दिए, लेकिन फिर भी उनका काम नहीं किया गया. जिसके बाद मुकेश ने पुलिस को इसकी सूचना देने दी.