ATM 'क्लोन' से धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, CBI कॉन्स्टेबल सहित 4 गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ की कोरबा (Korba) पुलिस ने एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर धोखाधड़ी करने वाले एक अंतर्राज्यीय गिरोह का भंडाफोड़ किया है.

ATM 'क्लोन' से धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, CBI कॉन्स्टेबल सहित 4 गिरफ्तार
(सांकेतिक तस्वीर)

कोरबाः छत्तीसगढ़ की कोरबा (Korba) पुलिस ने एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर धोखाधड़ी करने वाले एक अंतर्राज्यीय गिरोह का भंडाफोड़ किया है. कटघोरा पुलिस ने एटीम क्लोन के जरिए रुपये उड़ाने वाले गिरोह के 4 सदस्यों को पकड़ने में सफलता हासिल की है. चौंकाने वाली बात यह है की गिरोह में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) का एक आरक्षक भी शामिल है. सभी को पड़ोसी राज्य झारखंड (Jharkhand) के रांची (Ranchi) से गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने मामले में संलिप्त चारों आरोपियों से 8 मोबाइल और 5 हजार 680 रूपये जब्त किया है. पूछताछ के बाद सभी को न्यायालय में पेश करते हुए न्यायिक रिमांड पर जेल दाखिल कर दिया गया है.

दरअसल, कुछ माह पहले कटघोरा पुलिस में डुङ्गा के रहने वाले छेदु जायसवाल ने शिकायत दर्ज कराई थी की उसके खाते से किसी ने कूटरचना करते हुए 1 लाख 80 हजार की बड़ी रकम पार कर दी है. उन्होंने आशंका जताई थी की जब वह अपने खाते की जांच करने कटघोरा के एसबीआई परिसर के एटीएम पहुंचे थे तभी वहां पहले से मौजूद ठगो ने इस वारदात को अंजाम दिया होगा. 

MP: मोहल्ला क्लिनिक की तर्ज पर कमलनाथ सरकार ला रही संजीवनी योजना

उन्होंने मामले की शिकायत पुलिस से करते हुए जांच की गुहार लगाईं थी. इसी तरह ही आरोपियों ने एक अन्य शख्स को भी अपना शिकार बनाया था. इस बार उनके निशाने पर खुद एक पुलिसकर्मी था, उसके खाते से भी रहस्यमयी ढंग से करीब 1 लाख 60 हजार रूपये पार कर लिए थे. लगातार दो-दो बैंकिंग ठगी के सामने आने से पुलिस के भी कान खड़े हो गए. जिला पुलिस अधीक्षक ने दोनों ही मामलो पर गंभीरता दिखाते हुए साइबर सेल और कटघोरा पुलिस को पड़ताल कर आरोपियों की पतासाजी और गिरफ्तारी के निर्देश दिए थे. 

शादी के सालों बाद भी प्रेमी को नहीं भुला पाई पत्नी, इसलिए तलाक को तैयार हो गया पति

इसके बाद कटघोरा एसडीओपी व प्रभारी ने इस पूरे मामले पर बारीकी से जांच शुरू किया. पुलिस ने इसके लिए एटीएम के सीसीटीवी फुटेज खंगाले साथ ही आरोपियों के मोबाइल नंबर की भी जानकारी जुटाई. साइबर सेल (Cyber ​​cell) की मदद से यह जानकारी सामने आई की आरोपियों का मोबाइल नंबर एक संदिग्ध लेनदेन से जुड़ा हुआ है. आपको बता दे की आरोपियों ने यह रकम एटीएम क्लोन के जरिये सुंदरगढ़ एवं झाड़सुगुड़ा के एटीएम से निकाले थे. 

कारसेवा के दौरान खाई थी गोली, आज भीख मांगकर जिंदगी गुजार रहा है ये शख्स

जिसके बाद पुलिस की एक विशेष टीम झारखंड के रांची रवाना की गई, यहाँ पुलिस ने दबिश देते हुए मामले में संलिप्त मनोरंजन कुमार, जय भगवान त्रिपाठी, राजीव रंजन तथा सीबीआई आरक्षक रंजीत कुमार को हिरासत में ले लिया. कड़ाई से हुई पूछताछ में सभी ने अपराध करना स्वीकार कर लिया.

ये वीडियो भी देखें: