छत्तीसगढ़ः कर्ज से परेशान युवक ने रच डाली अपनी ही किडनैपिंग की साजिश

आरोपी युवक कर्ज के चलते काफी समय से परेशान चल रहा था. जिसके चलते उसने अपनी ही किडनैपिंग की झूठी खबर अपने परिवार तक पहुंचाई और फिर फिरौती में 1 करोड़ की रकम मांगी.

छत्तीसगढ़ः कर्ज से परेशान युवक ने रच डाली अपनी ही किडनैपिंग की साजिश
कर्ज के चलते परेशान था आरोपी खेमलाल चंद्राकर

सतीष तंबोली/कवर्धा/नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ के कवर्धा से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है जहां एक युवक ने अपी ही किडनैपिंग की झूठी साजिश रच डाली और फिर अपने ही पिता से 1 करोड़ की फिरौती मांग भी रख दी. हालांकि पिता द्वारा बेटे की किडनैपिंग की रिपोर्ट लिखाए जाने पर पुलिस ने 14 घंटो के भीतर इस मामले में आरोपी का पर्दाफाश कर दिया और आरोपी युवक को सलाखें के पीछे भेज दिया है. दरअसल, आरोपी युवक कर्ज के चलते काफी समय से परेशान चल रहा था. जिसके चलते उसने अपनी ही किडनैपिंग की झूठी खबर अपने परिवार तक पहुंचाई और फिर फिरौती में 1 करोड़ की रकम मांगी.

पिता की रिपोर्ट पर शुरू की खोजबीन
वहीं युवक के पिता ने जैसे ही पुलिस को इसके बारे में सूचना दी पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए 14 घंटे के अंदर ही मामले का खुलासा कर दिया. पिता द्वारा अपहरण की रिपोर्ट पर पुलिस ने खोजबीन की तो झूठे अपहरण का खुलासा हुआ. मामला पिपरिया थाना के ज्ञानपुर गांव का है. यहां प्रार्थी सम्पतलाल चन्द्राकर रिपोर्ट ने रिपोरी दर्ज कराई की 28 जुलाई उसके पुत्र खेमलाल चन्द्राकर उम्र 28 वर्ष का अपहरण कर लिया गया है. पिता ने बताया की खेमलाल विवाहित है, जो मजदूरी करने घर से निकला था और वह वापस घर नहीं लौटा.

पत्नी के मोबाइल पर फोन कर मांगी 1 करोड़ की फिरौती
पुलिस को पिता ने बताया कि उसके पुत्र के मोबाइल से पत्नी के मोबाइल पर किसी अज्ञात व्यक्ति ने फोन कर कहा कि खेमलाल चन्द्राकर को बंदी बनाकर रखा गया है और फिरौती की मांग की. सूचना पर पुलिस ने अपराध कायम कर तत्काल एक टीम बनाई और अपहृत खेमलाल चंद्राकर और संपत चन्द्राकर के बारे में उसके घर के आसपास पूछताछ की. घटना की गंभीरता को देखते हुए साइबर सेल की मदद भी ली गई. 

नागपुर के देवनगर में रिश्तेदारों के यहां रुका था खेमलाल
साइबर सेल द्वारा मोबाइल लोकेशन से मिले पतासाजी के लिए पुलिस टीम महाराष्ट्र के नागपुर के लिए रवाना हुई, जहां नागपुर रेल्वे स्टेशन के आस-पास खोजबीन की गई. मोबाइल लोकेशन के आधार पर नागपुर के देवनगर में खेमलाल चन्द्राकर की खोजबीन की गई. जहां खेमलाल चन्द्राकर देवनगर में मिला. जिसके यहां खेमलाल रूका था उस घर वालों से पुछताछ पर परिचित होना बताया गया. 

बाजार में कर्ज के चलते परेशान था युवक
पुलिस टीम खेमलाल चन्द्राकर को लेकर वापस चौकी दशरंगपुर पहुंची. पुलिस की पूछताछ पर खेमलाल चन्द्राकर ने बताया कि वह बाजार से बहुत अधिक कर्ज ले चुका था, जिसके कारण वह नागपुर भाग गया था और घर में उसी ने फोन कर अपनी झूठे अपहरण कहानी बताई थी और उसने घरवालों से 1 करोड़ फिरौती की मांग करने की अपना गुनाह कबूल लिया. वहीं पुलिस ने 14 घण्टे की भीतर झूठे अपहरण का उजागर कर लिया और अब आरोपी सलाखों के पीछे है.