छत्तीसगढ़: भूख हड़ताल कर रहीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं और सहायिकाएं बर्खास्त

रायपुर नगर निगम कमिश्नर ने कार्रवाई करते हुए 60 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और 15 सहायिकाओं को बर्खास्त कर दिया है.

छत्तीसगढ़: भूख हड़ताल कर रहीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं और सहायिकाएं बर्खास्त
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने हाथों में कटोरा लेकर भी प्रदर्शन किया.

रायपुर: जिले के बूढ़ातालाब धरना स्थल पर पिछले 46 दिनों से अनशन कर रहीं 60 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और 15 सहायिकाओं को गुरुवार को बर्खास्त कर दिया गया. प्रशासन ने भूख हड़ताल पर बैठी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं को पहले ही काम पर वापस लौटने को कहा था. वहीं 5 सूत्रीय प्रमुख मांगों को लेकर भूख हड़ताल कर रहीं 3 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की तबीयत बिगड़ गई. सूचना मिलते ही पुलिस ने आनन-फानन में तीनों को अस्पताल पहुंचाया. 

आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ताओं की बिगड़ी तबीयत 
मामले पर रायपुर नगर निगम कमिश्नर ने सख्ती से कार्रवाई करते हुए 60 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और 15 सहायिकाओं को बर्खास्त कर दिया है. वहीं अनशन कर रही तीन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पद्मावती साहू, भुवनेश्वरी और संतोषी को शरीर में खून कम होने के कारण आई कमजोरी के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया है. आपको बता दें कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएं शासकीय कर्मचारी घोषित करने, न्यूनतम वेतनमान 18000 रुपए प्रतिमाह करने, सेवानिवृति पर कार्यकर्ताओं को 3 और सहायिकाओं को 2 लाख रुपए देने, कार्यकर्ताओं को पदोन्नत करने में उम्र की सीमा हटाने के लिए भूख हड़ताल कर रही हैं. 

बाधित है पोषक खाद्य पदार्थों का वितरण
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका संघ की हड़ताल के चलते प्रदेश के आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों व गर्भवती महिलाओं को मिलने वाले पोषक खाद्य पदार्थों का वितरण भी प्रभावित हो रहा है. वहीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने हाथों में कटोरा लेकर भी प्रदर्शन किया. कार्यकर्ता धरना स्थल पर सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए अभी भी जमे हुए हैं.