close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: बलौदा बाजार में BJP की नींव होगी मजबूत या कांग्रेस की होगी जीत

बलौदा बाजार पर बीजेपी की अच्छी पकड़ है, लेकिन 2013 में यह विधानसभा सीट भाजपा के हाथ से खिसककर कांग्रेस के पाले में आ गई.

छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: बलौदा बाजार में BJP की नींव होगी मजबूत या कांग्रेस की होगी जीत
फाइल फोटो

रायपुरः छत्तीसगढ़ में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही दलों को नेता जोर-शोर से प्रचार में जुट गए हैं. प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी रैली कर प्रचार अभियान का आगाज कर चुके हैं. राज्य में दोनों ही दल जीत के लिए दांव खेल रहे हैं और कांग्रेस चाहती है कि 15 साल का सूखा खत्म कर सत्ता में वापसी करे. चुनावी माहौल के बीच बात करें बलौदा बाजार विधानसभा सीट की तो इस सीट को बीजेपी का गढ़ कहा जाता है. इस सीट पर बीजेपी की अच्छी पकड़ है, लेकिन 2013 में यह विधानसभा सीट भाजपा के हाथ से खिसककर कांग्रेस के पाले में आ गई. तभी से भाजपा की पूरी कोशिश है कि आगामी चुनावों में इस सीट को वापस पाया जा सके.

2008-2013 विधानसभा चुनाव नतीजे
बता दें 2008 के चुनाव में बलोदा बाजार में बीजेपी प्रत्याशी लक्ष्मी बघेल ने जीत दर्ज की थी. जबकि 2013 के विधानसभा चुनाव में यह सीट कांग्रेस प्रत्याशी जनकराम वर्मा के हाथ लगी. 2013 के चुनाव में जहां जनकराम वर्मा को 76,549 वोट मिलेत तो वहीं बीजेपी प्रत्याशी लक्ष्मी बघेल 66,572 वोट अपने नाम कर सकीं.

छत्तीसगढ़ राज्य
बता दें छत्तीसगढ़ में कुल 90 विधानसभा सीटें हैं. राज्य में कुल 11 लोकसभा सीटें और 5 राज्य सभा सीटें हैं. राज्य की 90 विधानसभा सीटों में से 51 सामान्य, 10 एससी और 29 सीटें एसटी के लिए आरक्षित हैं. 2013 में हुए विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस को लगातार तीसरी बार मात देते हुए सरकार बनाई थी. 

2013 छत्तीसगढ़ चुनाव नतीजे...
2013 में सीएम रमन सिंह की अगुवाई में हुए चुनाव में भाजपा ने कुल 49 सीटों पर जीत दर्ज कराई थी. बता दें छत्तीसगढ़ में इस बार भी कांग्रेस और भाजपा के बीच ही मुकाबला बताया जा रहा है. 2013 में भी कांग्रेस ने कुल 39 सीटों पर जीत पाई थी और 2 सीटों पर अन्य को जीत मिली थी. बता दें रमन सिंह पिछले 15 सालों से राज्य के मुख्यमंत्री हैं.