close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: जशपुर में भाजपा को हराना नहीं है आसान, ऐसा है चुनावी इतिहास

छत्तीसगढ़ का जशपुर आदिवासी बहुल इलाका है. यहां के करीब 60 प्रतिशत मतदाता आदिवासी हैं. ऐसे में यहां पर किसी भी प्रतिनिधि की जीत इन्हीं के वोटों के आधार पर होती है.

छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: जशपुर में भाजपा को हराना नहीं है आसान, ऐसा है चुनावी इतिहास
फाइल फोटो

जशपुरः छत्तीसगढ़ का जशपुर विधानसभा क्षेत्र प्रदेश ही नहीं देश में भी भाजपा के सबसे पुराने और मजबूत गढ़ के रूप में जाना जाता है. इस विधानसभा सीट पर पिछले पांच विधानसभा चुनावों से भाजपा की सत्ता है. वहीं छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद की बात की जाए तो यहां पिछले तीनों विधानसभा चुनावों में भाजपा ने ही परचम लहराया है. जशपुर में भाजपा अब तक बड़ी ही आसान जीत दर्ज कराते आई है. यहां अब तक भाजपा को कोई भी पार्टी बड़ी टक्कर नहीं दे पाई है. बता दें छत्तीसगढ़ का जशपुर आदिवासी बहुल इलाका है. यहां के करीब 60 प्रतिशत मतदाता आदिवासी हैं. ऐसे में यहां पर किसी भी प्रतिनिधि की जीत इन्हीं के वोटों के आधार पर होती है.

जशपुर में राज परिवार का हस्तक्षेप
एसटी वर्ग के लिए आरक्षित इस सीट पर हमेशा से ही यहां के राजघराने का वरचस्व रहा है. क्षेत्र में राजपरिवार के प्रभाव को देखते हुए भाजपा भी उसी उम्मीद्वार को उतारती है जो राजघराना चुनता है. पिछले पांच विधानसभा चुनावों पर नजर डालें तो भाजपा ने राजपरिवार से सलाह-मशविरा कर ही इस सीट पर अपना प्रत्याशी घोषित करता आया है. इस सीट पर प्रत्याशी के चुनाव से लेकर उसकी हार और जीत सब राजपरिवार पर निर्भर करता है. यही कारण है कि यहां कोई भी प्रत्याशी राजपरिवार ही तय करता है. बता दें राजा स्व. दिलीप सिंह जूदेव के निधन के बाद भी इस क्षेत्र पर आज भी राजपरिवार का ही दबदबा है.

2003 विधानसभा चुनाव नतीजे
छत्तीसगढ़ राज्य के बनने के बाद 2003 में हुए चुनावों में इस सीट पर भाजपा प्रत्याशी राज शरण भगत को इस सीट पर भारी मतों से जीत हासिल हुए. भाजपा प्रत्याशी राज शरण भगत को 2003 के विधानसभा चुनावों में जहां 45,295 वोट मिले तो वहीं कांग्रेस प्रत्याशी विक्रम भगत को कुल 35,732 वोट ही मिल सके.

2008 विधानसभा चुनाव नतीजे
2008 के चुनावों में राजपरिवार ने जगेश्वर राम भगत को इस सीट पर भाजपा का प्रत्याशी घोषित किया तो इसका पूरा फायदा जगेश्वर राम भगत को मिला. जगेश्वर राम भगत को जहां 64,553 वोट मिले तो वहीं कांग्रेस प्रत्याशी विनय कुमार भगत को 45,783 वोट ही मिल सके. 

2013 विधानसभा चुनाव नतीजे
वहीं अन्य चुनावों की ही तरह 2013 के विधानसभा चुनावों में भी भाजपा प्रत्याशी राजशरण भगत को ही इस सीट पर जीत मिली. राजशरण भगत को 2013 के विधानसभा चुनावों में 79,419 वोट मिले तो वहीं कांग्रेस प्रत्याशी सरहुल भगत को केवल 45,070 वोट ही मिल सके.