पत्थलगांव सीट पर कांग्रेस की जीत पर ब्रेक लगा 2013 के चुनाव में जीती थी भाजपा

2013 के विधानसभा चुनाव से पहले पत्थलगांव पर रामपुकार सिंह का एकछत्र राज्य था, जिसके चलते इसे कांग्रेस का अभेद किला माना जाता था.

पत्थलगांव सीट पर कांग्रेस की जीत पर ब्रेक लगा 2013 के चुनाव में जीती थी भाजपा
फाइल फोटो

जसपुरः छत्तीसगढ़ के जसपुर जिले की पत्थलगांव विधानसभा सीट प्रदेश की उन सीटों में से एक है जो कि हमेशा से ही विपक्षी पार्टी के निशाने पर रही है. क्षेत्र के विकास की रुकी गति और किसानों की बढ़ती समस्याएं इस क्षेत्र में हमेशा से ही चुनावी मुद्दा रही है. 2013 के विधानसभा चुनाव को छोड़ दिया जाए तो इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी ही जीतते आए हैं. ऐसे में भाजपा जहां 2013 के बाद से अब तक हुए क्षेत्र के विकास को अपना मजबूत प्वॉइंट बता रही है तो वहीं कांग्रेस पूर्व विधायक रामपुकार सिंह की साफ छवि का फायदा उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही.

पत्थलगांव विधानसभा सीट
बता दें 2013 में पत्थलगांव विधानसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी शिवशंकर पैकरा ने करीब 3 हजार मतों के अंतर से इस सीट पर जीत दर्ज कराई थी. वहीं 2008 और 2003 में इस सीट से कांग्रेस उम्मीद्वार रामपुकार सिंह विधायक रह चुके हैं और एक बार फिर चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी में हैं. बता दें 2013 के विधानसभा चुनाव से पहले पत्थलगांव पर रामपुकार सिंह का एकछत्र राज्य था, जिसके चलते इसे कांग्रेस का अभेद किला माना जाता था. रामपुकार सिंह का इस क्षेत्र में इतना वर्चस्व था कि स्वर्गीय दिलीप सिंह जुदेव भी उन्हें पत्थलगांव में मात नहीं दे पाए थे.

2003 विधानसभा चुनाव नतीजे
पिछले तीन विधानसभा चुनावों पर नजर डाली जाए तो 2003 में इस सीट पर रामपुकार सिंह ने बीजेपी उम्मीद्वार को 1 हजार वोटों के अंतर से मात दी थी. रामपुकार सिंह को जहां 37,205 वोट मिले तो वहीं कांग्रेस के विष्णुदेव साईं को 36,888 वोट ही मिल सके. 

2008 विधानसभा चुनाव नतीजे
2008 के चुनाव में भी बाजी रामपुकार सिंह के हाथ ही लगी. एक ओर जहां रामपुकार सिंह को 64,543 वोट मिले तो वहीं उनके विपक्ष में विष्णु देव साईं को 54,627 वोट मिले. 

2013 विधानसभा चुनाव नतीजे
वहीं 2013 के चुनाव में रामपुकार सिंह की लंबी जीत पर ब्रेक लगाते हुए भाजपा उम्मीद्वार शिवशंकर पैकरा ने 71,485 वोट अपने नाम कर जीत हासिल की तो वहीं रामपुकार सिंह को 67,576 वोट ही मिले.