खस्ताहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की जीती-जागती तस्वीर, महीने में एक दिन खुलता है अस्पताल

इस उपस्वास्थ्य केंद्र का निर्माण बीजेपी सरकार में करवाया गया था. लेकिन आज यह भवन पूरी तरह से जर्जर हो चुका है. इसके अलावा यहां पर डॉक्टरों की भी कमी बनी हुई है. जिसकी वजह से लोगों को इलाज के लिए 20 से 25 किलोमीटर दूर सफर करना पड़ता है. जिससे उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

खस्ताहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की जीती-जागती तस्वीर, महीने में एक दिन खुलता है अस्पताल

कोरिया: छत्तीसगढ़ सरकार स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही है. लोगों को इलाज में दिक्कत न हो इसके लिए राज्य सरकार राशनकार्ड और आयुष्मान कार्ड के जरिए भी लोगों का इलाज कराने का दावा कर रही है. लेकिन कोरिया जिले का उपस्वास्थ्य केंद्र 'कदना' सरकारी दावों की पोल खोलने के लिए काफी है. हालत यह है कि इस उपस्वास्थ्य केंद्र को लोगों के इलाज के लिए महीने में सिर्फ एक ही बार खोला जाता है.

छत्तीसगढ़ में 1378 पदों पर निकली भर्ती, यहां जानें चयन प्रक्रिया सहित पूरी डिटेल्स

इस उपस्वास्थ्य केंद्र का निर्माण बीजेपी सरकार में करवाया गया था. लेकिन आज यह भवन पूरी तरह से जर्जर हो चुका है. इसके अलावा यहां पर डॉक्टरों की भी कमी बनी हुई है. जिसकी वजह से लोगों को इलाज के लिए 20 से 25 किलोमीटर दूर सफर करना पड़ता है. जिससे उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

ग्रामीणों ने बताया कि उपस्वास्थ्य केन्द्र में बुनियादी सुविधाएं न होने की वज़ह से स्वास्थ्य कर्मचारी यहां रहना नहीं चाहते हैं. इसलिए महीने में इसे सिर्फ एक या दो दिन ही खोला जाता है. ग्रामीणों ने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर हो सकें, इसके लिए संबंधित अधिकारियों से भी कई बार शिकायत की जा चुकी है, लेकिन मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई. 

बिसाहूलाल के बाद अब मंत्री ब्रजेंद्र सिंह यादव का साड़ी बांटते वीडियो वायरल

वहीं, इस मामले में जब बीएमओ आरपी सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि उपस्वास्थ्य केंद्र में स्वास्थ्य कार्यकर्ता को पदस्थ कर दिया गया है. इससे पहले यहां पर अटेचमेंट में काम चल रहा था. जिसकी वजह से लोगों के इलाज में दिक्कत आ रही थी. 

Watch Live TV-