छत्तीसगढ़ सरकार का एक साल हुआ पूरा, CM भूपेश ने लगाए केंद्र सरकार पर आरोप

सीएम भूपेश बघेल का बड़ा बयान देते हुए कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के भरोसे चुनाव की वैतरणी बीजेपी ने पार की और सरकार बनाई. आरडीएक्स कहां से आया, ये कौन बतायेगा. 

छत्तीसगढ़ सरकार का एक साल हुआ पूरा, CM भूपेश ने लगाए केंद्र सरकार पर आरोप
सम्मेलन के बाद सीएम भूपेश बघेल ने कांग्रेस सरकार के एक साल के कामकाज का लेखा-जोखा भी रखा.

सत्य प्रकाश/रायपुर: छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के एक साल पूरे होने के मौके पर मंगलवार को छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन में कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया गया. कार्यकर्ता सम्मेलन में हालांकि कार्यकर्ताओं की भीड़ बेहद कम दिखी. इस सम्मेलन में सीएम भूपेश बघेल सहित चार मंत्री शामिल हुए. सम्मेलन में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि ये सरकार कार्यकर्ताओं ने बनाई है. हमारी सरकार ने 10 गांव के आदिवासियों की जमीन वापस की. जनता की बहुत उम्मीद है हमसे. अड़चन भी बहुत है. केंद्र सरकार अड़चन डाल रही है. 

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि हमारे सरकार के कार्यक्रम पर किसी ने उंगली नहीं उठाया. सबको राशन मिल रहा है, सबको पट्टा मिलेगा, कांग्रेस के लोग किसानों के साथ हैं. सरकारी खजाना का पैसा प्रदेश की जनता का पैसा है. एक-एक पैसे का सदुपयोग होगा. सुराजी गांव योजना हम लागू कर रहे हैं. केंद्र की बीजेपी की सरकार हमारे लिए और देश के लिए बड़ी चुनौती है. आज देश में भय का वातावरण बनाया जा रहा है, आग लगाई जा रही है. सामाजिक ध्रुवीकरण कर के सत्ता में बने रहना बीजेपी चाह रही है.

इतना ही नहीं, सीएम भूपेश बघेल का बड़ा बयान देते हुए कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के भरोसे चुनाव की वैतरणी बीजेपी ने पार की और सरकार बनाई. आरडीएक्स कहां से आया, ये कौन बतायेगा. अगर देश में एनआरसी लागू किया गया तो, मैं पहला व्यक्ति होऊंगा जो रजिस्टर पर दस्तखत नहीं करूंगा. असहयोग आंदोलन किया जायेगा. दक्षिण अफ्रीका में अंग्रेजों के विरुद्ध गांधी जी ने आन्दोलन किया था, यहां काले अंग्रेजों के खिलाफ आन्दोलन करेंगे.

सम्मेलन के बाद सीएम भूपेश बघेल ने कांग्रेस सरकार के एक साल के कामकाज का लेखा-जोखा भी रखा. सरकार के एक साल का लेखा-जोखा वाली किताब सीएम ने जारी किया. जिसका नाम दिया गया- छत्तीसगढ़ सेवा जतन के एक साल. इस साल का लेखा-जोखा जारी करते हुए सीएम भूपेश बघेल ने कहा, "हमारी सरकार का एक साल सेवा जतन का एक साल है. सभी वर्गों के लिए हमने इस एक साल में योजनाएं लाई है, अनेक फैसले हमने लिए हैं."

वहीं, सरकार की नक्सल नीति पर सीएम भूपेश बघेल ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि बस्तर में सभी वर्गों से मैं बातचीत कर चुका हूं. सुकमा तक जाकर पीड़ितों से बात की है. पुलिस वालों से बात की है. पीड़ित परिवार तक से बातचीत की है. जिसके बाद ये तय किया गया है कि नक्सलवाद का हल 'विश्वास और विकास' से होगा. उन्हें या तो बन्दूक पकड़ा दें या हल. हम हल देंगे, छोटे-छोटे काम देंगे उन्हें". सीएम ने कहा कि झीरम को लेकर कांग्रेस की सरकार गम्भीर है. सारकेगुड़ा मामले में सरकार के प्रयासों से रिपोर्ट ही रिपोर्ट आई है. जिन्हें नक्सली बताकर मारा गया है, उनके साथ न्याय होगा. आयोग को कह दिया गया है कि तय कार्यकाल में ही रिपोर्ट दें, अभी और कई रिपोर्ट आएंगी." 

वहीं, शराबबंदी पर सीएम ने कहा कि शराब बंदी जरूर लागू करेंगे लेकिन, उसके लिए पहले वातावरण बनायेंगे. शराबबंदी आसानी से नहीं होगी. कई राज्यों में शराबबंदी असफल है. बीजेपी इस मामले में राजनीति कर रही है." बता दें कि एक साल पूरे होने पर कांग्रेस ने निकाय चुनाव के लिए मंगलवार को ही अपना घोषणा पत्र भी जारी किया जिसमें कई वादे किए गए.

कांग्रेस सरकार के एक साल को बीजेपी ने नाकामी भरा एक साल बताया है. पूर्व सीएम और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह ने कहा कि सरकार एक साल में कर्ज तले दब गई है. विकास के काम रुक गए हैं. सरकार ने किसानों के साथ ही सभी वर्गों से वादाखिलाफी कर बड़ा छलावा किया है. शराबबंदी भी लागू नहीं की गई है.