close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़ सरकार के मंत्री ने दी बच्चों को गलत सीख, बोले- कलेक्टर, SP का कॉलर पकड़ो और बन जाओ बड़े नेता

लखमा कहते हैं कि 'अगर बड़ा नेता बनना है तो कलेक्टर और एसपी का कॉलर पकड़ो. इसके बाद ही तुम बड़े नेता बन पाओगे.' मंत्री जी के इस जवाब के बाद वहां मौजूद सभी लोग हंसने लगते हैं.

छत्तीसगढ़ सरकार के मंत्री ने दी बच्चों को गलत सीख, बोले- कलेक्टर, SP का कॉलर पकड़ो और बन जाओ बड़े नेता
कवासी लखमा (फोटो साभारः ANI)

रायपुरः इन दिनों छत्तीसगढ़ सरकार में आबकारी मंत्री कवासी लखमा का वीडियो हर तरफ चर्चा का विषय बना हुआ है. वायरल वीडियो में मंत्री कवासी लखमा स्कूली बच्चों को बड़ा और नामी नेता बनने की सीख देते नजर आ रहे हैं. दरअसल, लखमा शिक्षक दिवस के एक कार्यक्रम के तहत सुकमा के पवनार गांव के एक सरकारी स्कूल में पहुंचे थे. ऐसे में एक बच्चे ने उनसे पूछा कि 'आप इतने बड़े नेता हैं, आपने यह कैसे किया. मैं भी आपके जैसा बड़ा नेता बनना चाहता हूं. इसके लिए मैं क्या करूं?' इस पर लखमा कहते हैं कि 'अगर बड़ा नेता बनना है तो कलेक्टर और एसपी का कॉलर पकड़ो. इसके बाद ही तुम बड़े नेता बन पाओगे.' मंत्री जी के इस जवाब के बाद वहां मौजूद सभी लोग हंसने लगते हैं.

ऐसे में सफलता की सीख देते देते लखमा का यह बयान अब विवादों के घेरे में आ गया है. जहां हर तरफ उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. बीजेपी नेताओं ने लखमा के इस बयान की जमकर आलोचना की है. वहीं उन्होंने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि, 'मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है. उन्होंने कहा कि वह बच्चों से मिलने गए थे. वहीं कुछ बच्चों ने आगे चलकर नेता बनने की इच्छा जताई थी. तो उन्हीं को समझाते हुए लड़ाई लड़ने की बात की थी.'

देखें लाइव टीवी

उन्होंने आगे कहा कि 'मैंने यह बात अलग तरीके से कही थी, लेकिन मीडिया ने मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया है.' वहीं लखमा का यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है और लोग इस बयान पर उनकी जमकर आलोचना कर रहे हैं. बता दें इससे पहले अपने धमतरी दौरे के दौरान पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर को महुआ की दारू पीने की सलाह देकर भी वह विवादों में घिर गए थे.

ऐसा क्या हुआ, जो कलेक्टर को हटाने के लि‍ए 5 विधायकों ने CM को लिख दिया पत्र...

दरअसल, चंद्राकर ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा था कि, 'जय हो नरवा घुरूबा की, पी के मस्त रहो संगवारी.' इसी के जवाब में लखमा ने कहा था 'पेट में दर्द है तो महुआ की दारू पी लें, सब ठीक हो जाएगा.'