close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़ः शुरू हुआ नक्सलियों का शहीद सप्ताह, हाई अलर्ट पर पुलिस

छत्तीसगढ़ सीमा से सटे महाराष्ट्र के एटापल्ली तहसील के ग्राम कुसुवहीं में ग्रामीणों ने नक्सलवाद का खुलकर विरोध किया है. नक्सलियों द्वारा लगाए गए बैनर ग्रामीणों ने आग के हवाले करते हुए नक्सलवाद मुर्दाबाद के नारे भी लगाए हैं.

छत्तीसगढ़ः शुरू हुआ नक्सलियों का शहीद सप्ताह, हाई अलर्ट पर पुलिस
नक्सली शहीद सप्ताह के चलते नक्सलियों ने महाराष्ट्र से सटे एटापल्ली में बंद का ऐलान किया था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

शंकर सरकार/रायपुरः नक्सलियों के शहीद सप्ताह का आज पहला दिन है और पहले दिन ही पखांजूर में नक्सली बंद बेअसर है. लोग घर से निकल कर हाट बाजार में आ रहे हैं और शहर की दुकानें खुली हुई हैं. वहीं छत्तीसगढ़ सीमा से सटे महाराष्ट्र के एटापल्ली तहसील के ग्राम कुसुवहीं में ग्रामीणों ने नक्सलवाद का खुलकर विरोध किया है. नक्सलियों द्वारा लगाए गए बैनर ग्रामीणों ने आग के हवाले करते हुए नक्सलवाद मुर्दाबाद के नारे भी लगाए हैं. आपको बता दें कि नक्सलियों ने दहशत फैलाने के इरादे से इन इलाकों में बैनर लगाए थे. जिसमें नक्सलियों ने 28 जुलाई से 3 अगस्त तक नक्सली शहीद सप्ताह मनाने की अपील जनता से की थी.

इससे पहले नक्सलियों का विरोध क्षेत्र में कभी नहीं हुआ था. ये पहला मौका है जब ग्रामीणों ने नक्सलियों के दहशत को मात देते हुए घर से निकल कर नक्सवाद का खुलेआम विरोध किया है. माओवादियों के लगाए गए बैनर को ग्रामीणों ने आग के हवाले कर दिया है और नक्सलवाद के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. नक्सलवाद मुर्दाबाद का नारा भी लगा रहे हैं. कहीं न कहीं नक्सलवाद के खिलाफ ग्रामीणों का आगे आना भविष्य में क्षेत्र, प्रदेश और देश का नक्सल मुक्त होने का संकेत है. 

देेखें लाइव टीवी

पश्चिम बंगाल के हुगली में नहर में तैरता मिला BJP नेता का शव, इलाके में फैली सनसनी

वहीं 28 जुलाई से 3 अगस्त तक नक्सली शहीद सप्ताह को लेकर सुरक्षा की पुख्ता इंतजाम हैं. लगातार आस-पास की इलाकों और जंगलों में सुरक्षा बल सघन सर्चिंग में लगी हुई है. दंतेवाड़ा और जगदलपुर में हुए नक्सली घटना को देखते हुए पखांजूर इलाके के सभी पुलिस थानों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. नक्सली शहीद सप्ताह के दौरान इलाके में किसी तरह की नक्सली घटना न हो इसलिए सुरक्षा की पुख्ता इंतजाम है. स्थानीय लोगों का सुरक्षा की इंतेजाम किया गया ताकि वे नक्सलवाद के दहशत से बाहर निकल सके.