close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़ः कांकेर में पुलिस की माओवादियों के साथ मुठभेड़, 2 नक्सली ढेर

पुलिस और नक्सिलियों के बीच चली इस मुठभेड़ में पुलिस ने दो वर्दीधारी नक्सलियों को ढेर कर दिया. वहीं घटना स्थल से पुलिस को कुछ हथियार भी मिले हैं, जिसे पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है. मुठभेड़ के बाद पुलिस ने सर्च अभियान शुरू कर दिया है. 

छत्तीसगढ़ः कांकेर में पुलिस की माओवादियों के साथ मुठभेड़, 2 नक्सली ढेर
पुलिस को घटना स्थल से 4 हथियार भी मिले हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में गुरुवार की देर रात नक्सलियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई, जिसमें दोनों तरफ से सैकड़ों राउंड फायरिंग की गई. पुलिस और नक्सिलियों के बीच चली इस मुठभेड़ में पुलिस ने दो वर्दीधारी नक्सलियों को ढेर कर दिया. वहीं घटना स्थल से पुलिस को कुछ हथियार भी मिले हैं, जिसे पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है. मुठभेड़ के बाद पुलिस ने सर्च अभियान शुरू कर दिया है. पुलिस को शक है कि इलाके में और भी नक्सली छुपे हो सकते हैं.

मिली जानकारी के मुताबिक घटना स्थल से पुलिस को 4 हथियार मिले हैं. जिसकी पुष्टी कांकेर एसपी ने की है. घटना की जानकारी देते हुए कांकेर एसपी ने बताया कि पुलिस को कांकेर के टाडोकी थानाक्षेत्र के मुरनार गांव के आस-पास नक्सली हलचल की खबर मिली थी. जिसके बाद पुलिस ने ऑपरेशन शुरू कर 2 नक्सलियों को मार गिराया. वहीं कुछ नक्सली घटना स्थल से भागने में कामयाब रहे, जिनकी तलाश की जा रही है.

देखें लाइव टीवी

बीजापुरः नक्सलियों ने पुलिस मुखबिरी के शक में की कांग्रेस कार्यकर्ता की हत्या

बता दें इससे पहले छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में ही नक्सलियों ने पुलिस के एक मुखबिर को मार डाला था. पुलिस ने इस घटना की पुष्टी करते हूए बताया था कि छन्नू सोढ़ी (30) जिले के कोडीनार थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले बस्तनार साप्ताहिक बाजार गया हुआ था. जिसके बाद छन्नू को देखने पर नक्सलियों ने उस पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया था. जिससे उसकी घटना स्थल पर ही मौत हो गई थी. 

लोकसभा चुनाव में बुरी तरह हारने के बाद भी खुश है छत्तीसगढ़ कांग्रेस, जानें क्या है वजह?

घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस दल ने घटनास्थल का दौरा किया और शव को पोस्टमार्टम के लिए लाया गया. हमलावरों का पता लगाने के लिए इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया गया. सोढ़ी ‘गोपनिया सैनिक’ (गुप्त पुलिस मुखबिर) के रूप में काम कर रहे थे, जिन्हें नक्सल विरोधी अभियानों के लिए, खासकर खुफिया जानकारी जुटाने के लिए स्थानीय स्तर पर जिला पुलिस अधीक्षक द्वारा नियुक्त किया जाता है.