close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़: हाथी के हमले में वन कर्मचारी समेत दो लोगों की मौत

उन्होंने बताया कि बुधवार शाम छाल वन परिक्षेत्र के अंतर्गत पोड़ी गांव के पास जंगल में फारेस्ट गार्ड मुकेश पांडेय (32 वर्ष) को हाथी ने कुचलकर मार डाला. 

छत्तीसगढ़: हाथी के हमले में वन कर्मचारी समेत दो लोगों की मौत
पोस्टमार्टम के बाद शवों को परिजन को सौंप दिया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

रायगढ़: छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में जंगली हाथी के हमले में कई लोगों ने जान गंवा दी. जिसमें एक वन सुरक्षा कर्मी समेत दो अन्य लोग शामिल हैं. घटना की जानकारी देते हुए रायगढ़ जिले के धरमजयगढ़ क्षेत्र के वन मंडल अधिकारी प्रणय मिश्रा ने बृहस्पतिवार को यहां बताया कि छाल वन परिक्षेत्र में एक दंतैल हाथी के अचानक हमले में एक फारेस्ट गार्ड समेत दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और चार अन्य ग्रामीणों ने भाग कर अपनी जान बचाई है.

उन्होंने बताया कि कल शाम छाल वन परिक्षेत्र के अंतर्गत पोड़ी गांव के पास जंगल में फारेस्ट गार्ड मुकेश पांडेय (32 वर्ष) को हाथी ने कुचलकर मार डाला. पांडेय जब जंगली हाथियों के उत्पात से प्रभावित पोड़ी गांव में ग्रामीणों को जागरूक करने के लिए एक बैठक के बाद वापस लौट रहा था तब हाथी ने उसे घेर लिया और कुचल कर उसकी जान ले ली. हाथी के इसी तरह के हमले में कोटमार गांव के करीब सुअरलोड गांव निवासी किसान भुजेन्द्र राठिया (22 वर्ष) की भी मौत हो गई.

अधिकारी ने यह भी बताया कि राठिया अपने परिजन के साथ जब कुड़ुकेला गांव से एक दशगात्र कार्यक्रम में शामिल होकर लौट रहा था तब हाथी ने उनपर अचानक हमला कर दिया. इस घटना में राठिया की मौत हो गई जबकि उसके परिजन ने भागकर अपनी जान बचाई. उन्होंने बताया कि घटना की सूचना मिलने के बाद वन विभाग का अमला देर शाम घटनास्थल पर पहुंच गया था. हाथी के वहां रहने की वजह से शवों को निकालने में विलंब हुआ.

मिश्रा ने बताया कि आज पोस्ट-मार्टम के बाद शवों को उनके परिजन को सौंप दिया गया है. वन विभाग ने मृतकों के परिजन को नियमानुसार चार-चार लाख रुपए आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. वन विभाग के अनुसार क्षेत्र में चार-पांच हाथियों का एक दल विचरण कर रहा है. जिसमें से एक हमलावर हाथी इस दल से अलग हो गया है. वन विभाग ने जहां ग्रामीणों को सतर्क रहने के लिए कहा है वहीं ग्रामीण रात भर जाग कर जान माल की सुरक्षा कर रहे हैं.

(इनपुट भाषा से भी)