छत्तीसगढ़ में स्कूल खोलने का फैसला गलत! स्कूली बच्चों में तेजी से फैल रहा कोरोना संक्रमण
X

छत्तीसगढ़ में स्कूल खोलने का फैसला गलत! स्कूली बच्चों में तेजी से फैल रहा कोरोना संक्रमण

प्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 26 मामले सामने आए, जिनमें से 12 स्कूल जाने वाले बच्चे हैं.छत्तीसगढ़ के बेमेतरा के गर्ल्स स्कूल में 7 और महासमुंद में 5 छात्र पॉजिटिव मिले.सभी की उम्र 12 से 15 साल है. 

छत्तीसगढ़ में स्कूल खोलने का फैसला गलत! स्कूली बच्चों में तेजी से फैल रहा कोरोना संक्रमण

रजनी ठाकुर/रायपुर: छत्तीसगढ़ में अब स्कूली बच्चों में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं. प्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 26 मामले सामने आए, जिनमें से 12 स्कूल जाने वाले बच्चे हैं.छत्तीसगढ़ के बेमेतरा के गर्ल्स स्कूल में 7 और महासमुंद में 5 छात्र पॉजिटिव मिले.सभी की उम्र 12 से 15 साल है. स्कूली बच्चों में बढ़ते संक्रमण ने प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ा दी है. जिसके बाद प्रदेश में 26 सितंबर तक स्कूल बंद कर सभी स्टूडेंट्स के कोरोना टेस्ट किए जाने का आदेश दिया गया है. 

ये भी पढ़ें-धार की घटना पर सियासत: विपक्ष ने बताया- तालिबानी सरकार, BJP का पलटवार- कांग्रेस कोरोना जैसी

बच्चों में बढ़ते संक्रमण को लेकर विपक्ष हमलावर
तीसरी लहर के खतरे के बीच संक्रमण के मामले जहां एक तरफ चिंता बढ़ाने वाले हैं, वहीं इन आंकड़ों को लेकर विपक्ष भी हमलावर है. डेढ़ महीने बाद ही बच्चों में संक्रमण को लेकर विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा है. भाजपा प्रवक्ता अमित चिमनानी का कहना है कि आधी-अधूरी तैयारियों के साथ स्कूल खोले गए है. जांच की व्यवस्था भी स्कूलों में नहीं रखी गई. बस बच्चों की सेहत और सुरक्षा को ताक पर रखकर सरकार ने स्कूल खोल दिए.

शिक्षा मंत्री ने दिया जवाब
वहीं स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम का कहना है कि मामले लगातार नहीं आ रहे हैं. हालिया जो मामले सामने आ रहे है, उनको संज्ञान में लेकर तमाम जरुरी दिशा निर्देश दिए गए हैं, बच्चों के स्वास्थ्य और सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है.

सूरजपुर जिले में बच्चों में वायरल फ्लू

बता दें कि जिले के अलग-अलग इलाकों में वायरल फ्लू के मामले सामने आते रहते हैं, लेकिन इस बार प्रभावित बच्चों की बढ़ती तादात ने सबको चौंका कर रख दिया है.सूरजपुर के जिला अस्पताल में फिलहाल लगभग 75 बच्चों का इलाज जारी है. जिसमें 12 बच्चे वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं. हालांकि स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन का यह दावा है कि अभी तक बड़ी संख्या में बच्चे स्वस्थ होकर घर वापस भी जा चुके हैं

 

Watch LIVE TV-

Trending news