बाल तस्करीः बेटी बताकर घर में 2 बच्चियों को कैद किए बैठे थे दंपत्ति, पुलिस ने कराया रेस्क्यू

चाइल्ड लाइन को 1098 चाइल्ड हेल्प लाइन से जानकारी मिली थी की एक दंपत्ति कहीं बाहर से दो बच्चियों को लेकर रखे हुए हैं और अक्सर दोनों उन बच्चियों से मारपीट भी किया करते हैं.

बाल तस्करीः बेटी बताकर घर में 2 बच्चियों को कैद किए बैठे थे दंपत्ति, पुलिस ने कराया रेस्क्यू
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

दुर्गः मुख्यमंत्री और गृहमंत्री का जिला दुर्ग अब बाल तस्करी के गोरखधंधे का अड्डा बनता जा रहा है. हाल ही में दुर्ग से महिला बाल विकास की टीम ने दो बच्चियों को रेस्क्यू किया है, जिन्हें एक दंपत्ति ने अपने घर में अवैध रूप से रखा था. रेस्क्यू की गई बच्चियों को जब अस्पताल ले जाया गया तो डॉक्टर्स ने बताया कि दोनों बच्चियों के साथ शारीरिक और लैंगिक यातना हुई है और दोनों के ही शरीर में कई गंभीर चोटों के निशान हैं. वहीं बच्चियों को रेस्क्यू कराने के साथ ही पुलिस ने आरोपी दंपत्ति को भी गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस को आशंका है कि दंपत्ति ने दोनों बच्चियों को खरीद कर अपने पास रखा था.

फिर से सुर्खियों में एरिआस, पूर्व सुंदरी ने लगाया यौन शोषण का आरोप

दरअसल, एक मार्च को दुर्ग के साईं नगर के एक मकान में दो मासूम बच्चियों को चाइल्ड लाइन की टीम ने रेस्कयू किया, लेकिन जब इन मासूम बच्चियों पूछताछ की गई तो मामला चौंकाने वाला निकला. दरअसल, चाइल्ड लाइन को 1098 चाइल्ड हेल्प लाइन से जानकारी मिली थी की एक दंपत्ति कहीं बाहर से दो बच्चियों को लेकर रखे हुए हैं और अक्सर दोनों उन बच्चियों से मारपीट भी किया करते हैं. मौके पर पहुंची टीम ने बच्चियों से जुड़े दस्तावेज मांगे, लेकिन दंपत्ति ने कोई भी रिकॉर्ड होने से मना कर दिया.

Swiggy Boy ने युवती से की अश्लील हरकत, शिकायत की तो मिला 200 रुपये का कूपन

दंपत्ति का कहना था की हमने दोनों बच्चियां गोद ली हैं, लेकिन जब उनसे बच्चियों को गोद लेने के दस्तावेजों के बारे में पूछा गया तो वह उससे भी जुड़ा कोई रिकार्ड नहीं दिखा पाए जिसके बाद इस दंपत्ति से पूछताछ की गई. आपको बता दें कि चार साल की मासूम बच्ची के शरीर में कई जगहों पर गंभीर चोट के निशान है. जिससे समझा जा सकता है कि बच्चियों को किस तरह प्रताड़ित किया जा रहा था. दोनों बच्चियां पैसों से खरीद कर अन्य जिले या राज्य से लाई गई थीं.

भयावह रूप ले चुकी है मानव तस्करी, हर तीसरा पीड़ित है बच्चा- रिपोर्ट

बच्चियों को यातना देने वाले दंपत्ति में से महिला सरकारी अस्पताल में नर्स के पद पर पदस्थ है और पति रेलवे में नौकरी करता है. जिला महिला बाल विकास विभाग और बच्चों की न्यायिक संस्था सीडब्लूसी ने भी इस पूरे मामले को पुलिस को सौंप दिया है. जिसके बाद पुलिस इस मामले को बाल तस्करी से जोड़कर देख रही है. एक बच्ची की उम्र महज 4 साल तो दूसरी की 7 साल है. बहरहाल मोहन नगर पुलिस ने उक्त दंपत्ति के खिलाफ JJ एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है. फिलहाल मामले की छानबीन की जा रही है. मामले में अभी कई और खुलासे होने की संभावना है.