close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कमलनाथ का कलेक्टरों को निर्देश, जल्द करें भारी बारिश से जान-माल और फसल नुकसान का प्रारंभिक आकलन

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने सभी जिला कलेक्टरों (collector) को भारी बारिश से जान-माल और फसल नुकसान (loss) का प्रारंभिक आकलन करने के निर्देश दिए हैं ताकि बिना किसी विलंब के क्षतिपूर्ति राशि दी जा सके. 

कमलनाथ का कलेक्टरों को निर्देश, जल्द करें भारी बारिश से जान-माल और फसल नुकसान का प्रारंभिक आकलन
(फाइल फोटो)

भोपाल: मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने सभी जिला कलेक्टरों (collector) को भारी बारिश से जान-माल और फसल नुकसान (loss) का प्रारंभिक आकलन करने के निर्देश दिए हैं ताकि बिना किसी विलंब के क्षतिपूर्ति राशि दी जा सके. उन्होंने इसके साथ ही रबी फसलों के लिए खाद की आवश्यकता का आकलन करने के भी निर्देश दिए हैं.

बुधवार को मंत्रालय में जनाधिकार कार्यक्रम में वीडियो कान्फ्रेंसिंग (video conferencing) के माध्यम से कलेक्टरों से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों से कहा कि किसानों की ऋण माफी के संबंध में प्राथमिक रिपोर्ट (Preliminary report) भिजवाएं. हर जिले में ऋण माफी से संबंधित समस्या का स्वरूप अलग-अलग है. उन्होंने बिजली बिलों में आने वाली शिकायतों (complaint) पर भी विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए कहा कि आम उपभोक्ताओं की शिकायतें अत्यधिक बिल आने से संबंधित हैं. आपकी सरकार-आपके द्वार कार्यक्रम में ऐसे प्रकरणों का समाधान प्राथमिकता के साथ करें. उन्होंने कलेक्टरों से कहा कि वे अपने जिलों में जवाबदेही का वातावरण बनायें.

वनाधिकार के अस्वीकृत प्रकरणों का निराकरण स्वविवेक से करें
मुख्यमंत्री ने वनाधिकार अधिनियम अंतर्गत तकनीकी कारणों से अस्वीकृत किए गए प्रकरणों की तत्काल समीक्षा कर सकारात्मक निराकरण करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि तकनीकी कमियों से पात्र परिवार वनाधिकार पट्टों से वंचित नहीं रहना चाहिए. कलेक्टर अपने विवेक से भी तकनीकी कमियों को दूर कर सकते हैं. तकनीकी कमियों के कारण अस्वीकृत रह गए प्रकरणों में कलेक्टर जवाबदेही तय की जायेगी. उन्होंने कहा कि आदिवासी परिवारों (Tribal families) पर सबूत लाने पर जोर देने से बेहतर है कि स्वविवेक से उनकी मदद करें ताकि उनके प्रकरणों का सकारात्मक निराकण हो सके.

बारिश के बाद सड़कों की मरम्मत तत्काल शुरू करें
मुख्यमंत्री ने बारिश (rain) खत्म होते ही खराब हुई सड़कों की मरम्मत प्राथमिकता के साथ शुरू करवाने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि 20 सितम्बर से काम शुरू कर दें और 20 नवम्बर तक पूरा कर लें.

देखें लाइव टीवी

कमलनाथ (Kamal Nath) ने गौ-शालाएं खोलने और उन्हें संचालित करने के इच्छुक लोगों के आग्रह को देखते हुए कलेक्टरों से कहा कि इस काम को प्रोत्साहित करें. सभी जिले में ऐसे लोग और संस्थाएं सामने आ रही हैं जो गौ-शालाएं (Cowsheds) खोलना चाहते हैं. आगे बढ़कर उनकी मदद करें. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हेल्पलाइन (CM helpline) 181 में शिकायतों का संतुष्टिपूर्वक निराकरण करने में जिन अधिकारियों का खराब प्रदर्शन रहा है उनकी सूची बनायें.

मुख्यमंत्री ने कई हितग्राहियों के प्रकरणों का समाधान किया. दमोह के विवेक तोमर, धार के रेवाराम पाटीदार, राजगढ़ की रायला बाई, सागर के घनश्याम अहिरवार, सतना के राम नरेश साहू, अनूपपुर के अजय बैगा, बैतूल के हनुवंत कुशवाहा के प्रकरणों का निराकरण किया और आवश्यक निर्देश दिये.