कमलनाथ के आरोपों पर CM शिवराज का पलटवार, कहा- ''एक ​परिवार की पूजा करने वाले जनसेवक नहीं हो सकते''

कमलनाथ की बागी विधायकों पर प्रलोभन और सौदेबाजी का शिकार हो जाने की टिप्पणी पर शिवराज ने कहा कि मैं मेरे उन सभी साथियों का सम्मान करता हूं.

कमलनाथ के आरोपों पर CM शिवराज का पलटवार, कहा- ''एक ​परिवार की पूजा करने वाले जनसेवक नहीं हो सकते''

भोपाल: बीजेपी पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के कुछ विधायकों की महत्वकांक्षा का फायदा उठाते हुए सरकार बनाने के आरोपों पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया है.

ट्वीट के जरिए कमलनाथ पर निशाना साधते हुए शिवराज सिंह ने लिखा, ''सरकार बनाने और चलाने के लिए प्रजाहित को सर्वोपरि रखना पड़ता है. जो प्रदेश के मुखिया प्रजा को छोड़ एक परिवार की पूजा में लिप्त रहते हैं, वो कभी जनता की सरकार नहीं बना सकते और अगर गलती से कभी बना भी लें तो ज्यादा दिन चला नहीं सकते. ये पब्लिक है वो सब जानती है.''

ये भी पढ़ें: सौदेबाजी और महत्वाकांक्षी राजनीति का अनुभव नहीं था इसलिए सरकार हाथ से गई: कमलनाथ

''स्वकेंद्रित सरकार को गिराने के लिए साथियों का सम्मान''
कमलनाथ की बागी विधायकों पर प्रलोभन और सौदेबाजी का शिकार हो जाने की टिप्पणी पर शिवराज ने कहा कि मैं मेरे उन सभी साथियों का सम्मान करता हूं. जिन्होंने कमलनाथ की स्वकेंद्रित बंटाधार सरकार को गिराने के लिए और प्रदेश की उन्नति के लिए अपनी-अपनी राजनीतिक कारकिर्दगी (करियर) को दांव पे लगा दिया. सारे पदों को छोड़ दिया. अति कठोर फैसले लिए और उस पर अडिग रहे.

''सिंधिया ने प्रदेश हित सर्वोपरि रखा, साथियों समेत भ्रष्ट सरकार को छोड़ा''
एक और ट्वीट में कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए और सिंधिया की तारीफ करते हुए शिवराज ने लिखा कि पिछली कांग्रेस सरकार ने प्रदेश में त्राहि-त्राहि मचा दी थी. भ्रष्टाचार में लिप्त सरकार को उखाड़ फेंकने में मदद करने वाले ही असली लीडर, असली हीरो होते हैं. ज्योतिरादित्य सिंधिया ही ऐसे नेता हैं जिन्होंने प्रदेश का हित सर्वोपरि रखा और भ्रष्ट सरकार से अपने साथियों समेत किनारा किया.