एग्जिट पोल को लेकर सीएम शिवराज बोले- मुझसे बड़ा सर्वेयर कोई नहीं, बीजेपी ही जीतेगी

मध्य प्रदेश में 230 सदस्यीय विधानसभा में किसी पार्टी को सरकार बनाने के लिए 116 सीटें जीतने की जरूरत है.

एग्जिट पोल को लेकर सीएम शिवराज बोले- मुझसे बड़ा सर्वेयर कोई नहीं, बीजेपी ही जीतेगी
मध्य प्रदेश में वर्ष 2013 में बीजेपी ने 165 सीटें जीती थीं, कांग्रेस को 58 सीटें मिली थीं.

नई दिल्ली: विधानसभा चुनावों के बाद जारी हुए अधिकांश एक्जिट पोल के परिणामों में मध्यप्रदेश में कांग्रेस की जीत की संभावना जताई गई है. मगर राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस सर्वे से इत्तेफाक नहीं रखते. उनका कहना है कि प्रदेश में बीजेपी ही सरकार बनाएगी.
 
सीएम शिवराज सिंह ने कहा, ''मुझसे बड़ा सर्वेयर कोई नहीं हो सकता, जो दिन और रात जनता के बीच घूमता है. इसलिए पूरे विश्वास के साथ कह रहा हूं कि भारतीय जनता पार्टी ही सरकार बनाएगी. क्योंकि यह  गरीबों, किसानों के लिए जरूरी है.''

#ZeeMahaExitPoll: मझधार में MP, राजस्‍थान में कांग्रेस, छत्‍तीसगढ़ में त्रिशंकु स्थिति
दरअसल, इस बार चुनावी परिणाम के पहले एबीपी न्यूज-लोकनीति सीएसडीएस के सर्वे में 230 सदस्यीय मध्य प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस को 126 सीटें दी गई हैं, जबकि बीजेपी को 94 और अन्य को 10 सीटें दी गई हैं.

इंडिया टुडे-माई एक्सिस पोल में भी कांग्रेस को 104-122 सीटों के साथ आगे दिखाया गया है, जबकि बीजेपी को 102-120 सीटें दी गई हैं. सर्वेक्षण में बसपा को 1 से 3 सीटें और अन्य को 3 से 8 सीटें दी गई हैं.

सी-वोटर ने कांग्रेस को 110-126 सीटें दी है, जबकि बीजेपी को 90-106 सीटें दी है. अन्य दलों के खाते में 6-22 सीटें जाने का अनुमान जताया गया है.

मध्‍य प्रदेश #ZeeMahaExitPoll LIVE: BJP को 112 तो कांग्रेस को मिलेंगी 108 सीटें
आईटीवी-नेता एक्जिट पोल में कांग्रेस को 112 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है और बीजेपी को 106 सीटें मिलने की बात कही गई है. मायवती की बसपा सहित अन्य दलों को 12 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है. हालांकि टाइम्स नाउ-सीएनएक्स ने बीजेपी को 126 सीटें दी है, और कांग्रेस को 89 सीटें मिलने का अनुमान जताया है. बसपा को छह सीटें दी गई हैं.

मध्य प्रदेश में साल 2003 से बीजेपी सत्ता में है. 230 सदस्यीय विधानसभा में किसी पार्टी को सरकार बनाने के लिए 116 सीटें जीतने की जरूरत है. साल 2013 में बीजेपी ने 165 सीटें जीती थीं, कांग्रेस को 58 सीटें मिली थीं, बसपा को चार और निर्दलियों ने तीन सीटें जीती थीं.