कमलनाथ परदेशी, ग्वालियर के विकास के लिए हम पैसों की कमी नहीं आने देंगे-सीएम शिवराज

ग्वालियर-चंबल संभाग में सदस्यता अभियान के तहत ग्वालियर पहुंचे शिवराज सिंह चौहान ने भी कांग्रेस को आड़े हाथ लिया. शिवराज ने कहा कि कमलनाथ तुम गलत जगह भिड़ गये.

कमलनाथ परदेशी, ग्वालियर के विकास के लिए हम पैसों की कमी नहीं आने देंगे-सीएम शिवराज
सदस्यता अभियान कार्यक्रम में शिवराज सिंह जमकर कांग्रेस पर बरसे

ग्वालियर: ग्वालियर-चंबल संभाग में सदस्यता अभियान के तहत ग्वालियर पहुंचे शिवराज सिंह चौहान ने भी कांग्रेस को आड़े हाथ लिया. शिवराज ने कहा कि कमलनाथ तुम गलत जगह भिड़ गये. जब महाराज से सड़क पर उतरने को कहा तो महाराज ने कमलनाथ को ही सड़क पर ला दिया.

फिर सामने आया चम्बल के पानी का ग्वालियर लाने के मुद्दा. सीएम ने कहा कि नरेंद्र सिंह है साफ पानी तो मिलेगा ही साथ ही चम्बल का पानी भी मिलेगा. दूध में शक्कर की तरह हम आपस में घुल-मिलकर रहेंगे. 
शिवराज ने कहा कि कांग्रेस का 27 की 27 सीटों पर कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर देंगे. कमलनाथ ने  बीजेपी को नहीं हराया बल्कि bjp इस अंचल से हारी, बल्कि सिंधिया जी के चेहरे पर वोट मिले थे. उस जनता को ही कमलनाथ समय नहीं देते थे. उपचुनाव के बाद तो कमलनाथ दिल्ली रवाना हो जायेंगे. ये तो परदेशी लोग हैं. कमलनाथ बल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया था. शायराना अंदाज में कहा कि तेरी प्यारी-प्यारी सूरत को नजर न लगे. इसीलिये कमलनाथ जी कभी बाहर नहीं निकले.

अपने इलाके में दहाड़े ज्योतिरादित्य सिंधिया, कांग्रेस सरकार को बताया भ्रष्टाचार का पर्याय

कमलनाथ से विकास की बात करो को कहते थे मेरे पास पैसे ही नहीं. अरे जब पैसे नहीं हैं तो क्या भाड़ झोंकने के लिए मुख्यमंत्री बने थे. शिवराज ने कमलनाथ पर जनता की पीठ में छूपा घोपने वाला बताया. 
जबकि सिंधिया पर कांग्रेस छोड़ने के आरोप पर सीएम ने कहा कि मोती लाल नेहरू ने भी कांग्रेस छोड़ी थी और स्वराज पार्टी बना ली थी तो क्या वो भी गद्दार थे? इंदिरा गांधी ने भी कांग्रेस छोड़कर कांग्रेस (आर) बना ली थी. तो क्या वे भी गद्दार थीं. जो आदमी कांग्रेस की गलत नीतियों की वजह से कांग्रेस छोड़ दे वह गद्दार हो जाता है. शिवराज ने कहा कि आज मैं वचन देता हूं - ग्वालियर के विकास के लिए शिवराज सिंह कभी पैसों की कमी नहीं आने देगा. 

जिस दिन राम मंदिर का शिलान्यास होना था, उस दिन कमलनाथ जी हनुमान चालिसा करने बैठ गये. कमलनाथ जी हनुमान चालिसा से भक्तों के संकट कटते हैं, दुष्टों की संकट पीड़ा नहीं हरती. मैं सिर्फ इतना कहता हूं उनसे सावधान रहना.
जबकि शिवराज ने दिग्विजय सिंह पर नाम लिए बिना कहा कि होंठ कमल नाथ के चलते हैं बोलता और कोई है. उनका नाम नहीं लूंगा नहीं तो नहाना पड़ेगा, अभी नहाने का मूड नही हैं. उन्होंने जनता से पूछा कि कमलनाथ-दिग्विजय की जोड़ी चाहिये, या ये जोड़ी चाहिये जो यहां बैठी है.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने हाथों से प्रद्युम्न सिंह तोमर को पहनाई चप्पल, कई महीनों से थे नंगे पांव

इससे पहले राज्यसभा सांसद और बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी तत्कालीन कांग्रेस सरकार और कमलनाथ पर जमकर हमला बोला. सिंधिया ने कहा कि जिस इलाके के लोगों ने कांग्रेस पर भरोसा किया और 32 में से 26 सीट जिताई थीं, उन सीएम का 15 महीनों में इलाके के लोगों ने शक्ल तक नहीं देखी. इस इलाके के लोग जब सीएम कमलनाथ से मिलने जाते थे तो कहते थे चलो-चलो. मोदी जी ने तो कोरोना में लोगों की जान बचाने के लिए लॉकडाउन लगाया, लेकिन कमलनाथ जी तो 15 महीने पहले ही वल्लभ भवन में आम लोगों के लिए लॉकडाउन लगा दिया था. 

WATCH LIVE TV