close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बैठक के दौरान कलेक्टर ने बनाई खिचड़ी

मंडला में उस वक्त एक बैठक में सभी लोग देखते रह गए जब कलेक्टर मे खुले आसमान के नीचे गैस पर खिचड़ी बनानी शुरू कर दी है, कलेक्टर ने क्यों किया ऐसा, पढ़िए पूरी ख़बर। 

बैठक के दौरान कलेक्टर ने बनाई खिचड़ी

मंडला: ज़िला कलेक्टर प्रीति मैथिल उस वक्त एक कलेक्टर के साथ-साथ एक गृहणी के रूप में भी नजर आईं जब उन्होंने ज़िले के विकासखंड बीजाडांडी में एक समीक्षा बैठक के दौरान बच्चों को पोषण आहार में दी जाने वाली खिचड़ी खुद पकाई।

कलेक्टर ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, महिला बाल विकास विभाग की पर्यवेक्षकों और बच्चों की माताओं को खिचड़ी बनाकर बताया और कहा कि अगर इस तरह से बच्चों के स्वाद के अनुसार, रुचिकर आहार दिया जाए तो ना केवल बच्चे बड़े चाव से पोषण आहार खाएंगे बल्कि कुपोषण का शिकार होने से भी बचेंगे।

बीजाडांडी में विकासखंड स्तरीय समीक्षा बैठक के दौरान जब कुपोषित बच्चों की टेक होम राशन वितरण की बात सामने आई तो कलेक्टर ने कहा कि सिर्फ पोषण आहार माताओं को दे दिया जाना योजना का मुख्य उद्देश्य नहीं है।

बल्कि उसे बच्चे की रूचि के अनुसार पकाना और उसे दिया जाना महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि दिया जाने वाला पोषण आहार बच्चों को अलग अलग ढंग से उसकी रूचि के अनुसार पका कर दिया जाये तो वो मज़े से खाएगा।

उन्होंने तत्काल एक स्थानीय आंगनबाड़ी  कार्यकर्ता को गैस, कुकर एवं पोषण आहार उपलब्ध कराने को कहा।

कलेक्टर ने साथ ही कुछ सब्ज़ियां भी मंगवाईं और सभी कार्यकर्ताओं एवं पर्यवेक्षकों, परियोजना अधिकारियों के सामने पौष्टिक खिचड़ी बनाकर दिखाई और कहा कि इसी प्रकार बच्चों के स्वाद का ध्यान रखते हुये अगर उन्हें पोषण आहार दिया जायेगा तो निश्चित ही वो कुपोषण से दूर रहेंगे।

इसी आधार पर उन्होंने पर्यवेक्षकाओं को अपने सेक्टर की आंगनबाड़ियों में साप्ताहिक दिन तय कर प्रशिक्षण देने के निर्देश दिए हैं।