बीजेपी सरकार चुनावी फायदे के लिए कर रही है ‘संबल योजना’ के कोष का इस्तेमाल : कांग्रेस

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश की बीजेपी सरकार ने अपनी महत्वाकांक्षी "मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना" के लिए धन का इंतजाम करने को एक कोष से अवैधानिक तौर पर करीब 1,300 करोड़ रुपए की रकम निकाली.

बीजेपी सरकार चुनावी फायदे के लिए कर रही है ‘संबल योजना’ के कोष का इस्तेमाल : कांग्रेस
कांग्रेस ने कहा कि श्रम विभाग से जुड़े कर्मकार कल्याण मंडल के कोष से कथित तौर पर करीब 1,300 करोड़ रुपए राज्य सरकार की आकस्मिकता निधि में भेजे गए. (फाइल फोटो)

इंदौर: कांग्रेस ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश की बीजेपी सरकार ने अपनी महत्वाकांक्षी "मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना" के लिए धन का इंतजाम करने को एक कोष से अवैधानिक तौर पर करीब 1,300 करोड़ रुपए की रकम निकाली और इसका बेजा इस्तेमाल किया. कांग्रेस की प्रदेश इकाई के सचिव राकेश सिंह यादव ने कहा कि श्रम विभाग से जुड़े कर्मकार कल्याण मंडल के कोष से कथित तौर पर करीब 1,300 करोड़ रुपए राज्य सरकार की आकस्मिकता निधि में भेजे गए. 

योजना के नाम पर अपात्रों को पहुंचाया फायदा- कांग्रेस
उन्होंने आरोप लगाया कि खासकर भवन निर्माण क्षेत्र के मजदूरों के हित में बनाये गए इस कोष से छेड़छाड़ करते हुए यूं आकस्मिकता निधि में रकम भेजना नियम-कायदों के खिलाफ है. यह कोष करदाताओं के धन से तैयार होता है. यादव ने आरोप लगाया कि आकस्मिकता निधि में पहुंचायी गई रकम को मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना के नाम अंतरित कर दिया गया और इस योजना के नाम पर बड़ी संख्या में अपात्र लोगों को फायदा पहुंचाया गया. प्रदेश सरकार ने इस योजना के तहत दो करोड़ से ज्यादा कामगारों के पंजीयन का दावा किया है, जिससे भारी फर्जीवाड़े की बू आती है. 

मामले की जांच सक्षम एजेंसी से कराने की मांग  
प्रदेश कांग्रेस सचिव ने मांग की कि किसी सक्षम कानूनी एजेंसी से मामले की जांच कराई जानी चाहिए. सूबे में मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल) योजना आगामी विधानसभा चुनावों से पहले पेश की गई है. इसके तहत असंगठित क्षेत्र के कामगारों के बकाया बिजली मिल माफ किए जाते हैं और उन्हें अन्य तरीकों से सरकारी मदद दी जाती है. 

(इनपुट भाषा से)