खनन मंत्री के सामने तू-तू, मैं-मैं, महिला अधिकारी ने की कांग्रेसी नेताओं की बोलती बंद

शहडोल में मंत्री के सामने ही कांग्रेसी नेता और खनन अधिकारी की तू-तू, मैं-मैं करने लगे. इसका वीडियो प्रदेश में वायरल हो रहा है. मामला बढ़ता देख पुलिस पहुंच गई. इसके बाद दोनों पक्षों को शांत कराया गया.

खनन मंत्री के सामने तू-तू, मैं-मैं, महिला अधिकारी ने की कांग्रेसी नेताओं की बोलती बंद
शहडोल में भिड़ गए कांग्रेसी नेता और महिला अधिकारी

शहडोल: शहडोल में मंत्री के सामने ही कांग्रेसी नेता और खनन अधिकारी की तू-तू, मैं-मैं करने लगे. इसका वीडियो प्रदेश में वायरल हो रहा है. मामला बढ़ता देख पुलिस पहुंच गई. इसके बाद दोनों पक्षों को शांत कराया गया. इस आरोप-प्रत्यारोप पर मंत्री ने दोनों को फटकार भी लगाई.
दरअसल, शुक्रवार को खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल शहडोल में संभागीय समीक्षा बैठक में शामिल होने गए थे. उन्होंने जिले में खनिज विकास निगम के संभागीय कार्यालय का उद्घाटन भी किया. 
 
यहीं पर कांग्रेस नेताओं ने मौका देख ने खनिज अधिकारी और खनन विभाग पर रेत का अवैध खनन कराने व खनन माफियाओं को संरक्षण देने का आरोप लगाया. स्थानीय नेता खनिज अधिकारी से ही बहस करने लगे. मामला तू-तू, मैं-मैं पर आ गया. माहौल गर्मागर्म बहस में बदल गया. मामले को बढ़ता देख मंत्री को बीचबचाव में आना पड़ा. इसी बीच एक खिसियाये कांग्रेसी नेता ने खनिज मंत्री के सामने ही महिला खनिज अधिकारी के मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे. इस पर खनिज अधिकारी फरहत जहां ने कांग्रेसी नेताओं को खरी-खोटी सुनाने लगी. खनन अधिकारी ने कांग्रेस नेता और उसके भाई पर रेत खनन और चोरी के आरोप लगा दिया. गहमागहमी को देखते ही मौके पर मौजूद पुलिस ने दोनों पक्षों को शांत कराया गया. खनिज मंत्री प्रदीप जैसवाल ने मामले में बचाव करते हुए सारा मामला भाजपा के 15 सालों की सरकार पर डाल दिया.

MP: आखिर अफसरों से भरी सभा में मंत्री जी ने क्यों पकड़ लिए इंजीनियर साहब के पैर

'कंप्यूटर बाबा को तकनीकी ज्ञान वैज्ञानिक ज्ञान नहीं है'
कटनी पहुंचे खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल ने खोला कंप्यूटर बाबा के खिलाफ मोर्चा खोला. उन्होंने कहा कि बाबा को नहीं है वैज्ञानिक और तकनीकी ज्ञान. बेवजह सरकारी खदानों पर कार्रवाई का दबाव बनाने का आरोप लगाया. खनन मंत्री प्रदीप जायसवाल जबलपुर संभागस्तरीय बैठक में शामिल होने कटनी पहुंचे थे. जहां उन्होंने कहा कि कम्प्यूटर बाबा कोई वैज्ञानिक नहीं हैं, न ही उनको तकनीकी ज्ञान है. 

सरकार द्वारा रेत का अवैध खनन नहीं रोक पाने वाले कम्प्यूटर बाबा के बयान संबंधी मीडिया के सवाल का जवाब देते हुए खनिज मंत्री ने कहा कि कई बार कुछ लोग उन्हें सरकारी खदान में भेज देते हैं. कुछ खदानें पंचायतों को भी स्वीकृत होती हैं. वहां नियमानुसार खनन होता है, फिर बाबा द्वारा कहा जाता है कि मैं आया हूं तो कार्रवाई होनी चाहिए. दबाव भी डाला जाता है. खनिज मंत्री ने कहा कि ऐसा नहीं है कि कम्प्यूटर बाबा जहां जा रहे वहां रेत का अवैध खनन ही चल रहा है.