MP: ज्योतिरादित्य सिंधिया के राज्यसभा निर्वाचन को HC में चुनौती, एफिडेविट में तथ्य छिपाने का आरोप

अपनी याचिका में गोविंद सिंह ने आरोप लगाया गया है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राज्यसभा उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन दाखिल करते समय एफिडेविट में कुछ तथ्य छिपाए थे.

MP: ज्योतिरादित्य सिंधिया के राज्यसभा निर्वाचन को HC में चुनौती, एफिडेविट में तथ्य छिपाने का आरोप
ज्योतिरादित्य सिंधिया.

भोपाल: ज्योतिरादित्य सिंधिया का राज्यसभा निर्वाचन का मामला जबलपुर हाई कोर्ट के दरवाजे तक पहुंच गया है. कांग्रेस नेता गोविंद सिंह ने सिंधिया के राज्यसभा निर्वाचन को हाई कोर्ट में चुनौती दी है. अपनी याचिका में गोविंद सिंह ने आरोप लगाया है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राज्यसभा उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन दाखिल करते समय एफिडेविट में कुछ तथ्य छिपाए थे.

इसी को आधार बनाकर गोविंद सिंह ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के राज्यसभा निर्वाचन को कोर्ट में चुनौती दी है. गोविंद सिंह ने अपनी याचिका में कहा है कि साल 2018 में भोपाल के श्यामला हिल्स थाने में कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस बात को सार्वजनिक रूप से स्वीकारा भी था, अब वह कांग्रेस में नहीं हैं और भाजपा से राज्यसभा के सांसद चुने गए हैं.

MP के सभी मंत्री अपने वेतन का 30% CM राहत कोष में करेंगे दान, मुख्यमंत्री शिवराज ने की शुरुआत

गोविंद सिंह का आरोप है कि सिंधिया ने राज्यसभा उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन दाखिल करते एफिडेविट में एफआईआर वाली बात छिपाई थी. उन्होंने अपनी याचिका में इसे जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 (Representation of the People Act, 1951) के नियमों का उल्लंघन बताया है और कोर्ट से ज्योतिरादित्य सिंधिया का राज्यसभा निर्वाचन शून्य घोषित करने की मांग की है.

गोविंद सिंह ने हाई कोर्ट में याचिका दायर करने के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस छोड़कर भाजपा में वही लोग जा रहे हैं, जो राजनीति को जनसेवा नहीं, व्यवसाय समझते हैं. उनका इशारा ज्योतिरादित्य सिंधिया और कांग्रेस के उन 25 विधायकों की ओर था, जिन्होंने विधायकी से त्यागपत्र देकर भाजपा का दाम थाम लिया. सिंधिया की कांग्रेस से बगावत से मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिर गई थी.

WATCH LIVE TV