close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस नेता का शिवराज सिंह पर पलटवार, बोले- 'BJP नेता भूल नहीं पा रहे कि अब वो मुख्यमंत्री नहीं'

अजय सिंह ने कहा कि मंत्री-मुख्यमंत्री बाढ़ पीड़ितों के बीच इसलिए नहीं गए हैं क्योंकि कभी-कभी वीआईपी लोगों के जाने से स्थिति और बिगड़ जाती है. प्रशासन को पीड़ितों की मदद के निर्देश दिए गए हैं. 

कांग्रेस नेता का शिवराज सिंह पर पलटवार, बोले- 'BJP नेता भूल नहीं पा रहे कि अब वो मुख्यमंत्री नहीं'
अजय सिंह और शिवराज सिंह चौहान (फोटो फाइल)

नई दिल्ली: प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से कई क्षेत्रों में जनजीवन बेहाल हो गया है. इसी बीच मध्यप्रदेश के मंदसौर पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साफ किया है कि बाढ़ के इस मौके पर किसी भी तरह की दोषारोपण नहीं किया जाएगा. प्रशासन का पूरा सहयोग किया जाएगा साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री ने खुद की और मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता और विधायक यशपाल सिसोदिया कि एक माह को सैलरी बाढ़ पीड़ितों को देने की घोषणा की. शिवराज सिंह चौहान की इस बात पर पलटवार करते हुए कांग्रेस नेता अजय सिंह ने कहा कि बीजेपी नेता भूल नहीं पा रहे हैं कि अब वह प्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं हैं. 

कांग्रेस के वरिष्ठ मंत्री अजय सिंह ने कहा कि शिवराज को अपने घर पर ज्यादा देर रुकने की इजाजत नहीं है. मुख्यमंत्री रहते हुए भी वह ज्यादा देर घर पर नहीं रुक पाते थे. अजय सिंह ने आगे कहा कि मंत्री-मुख्यमंत्री बाढ़ पीड़ितों के बीच इसलिए नहीं गए हैं क्योंकि कभी-कभी वीआईपी लोगों के जाने से स्थिति और बिगड़ जाती है. प्रशासन को पीड़ितों की मदद के निर्देश दिए गए हैं और हरसंभव प्रयास जारी हैं. केंद्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को दी जाने वाली राशि कम किए जाने पर अजय सिंह ने कहा कि इससे पता चलता है कि उनकी नीयत साफ नहीं है. 

मंदसौर: बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के दौरे पर शिवराज सिंह चौहान, बोले- 'विरोध नहीं सहयोग के लिए आए हैं'

बता दें कि शिवराज सिंह चौहान ने मंदसौर पहुंचकर जनता से कहा कि स्थिति भयानक है, जनता संकट में है, हम चुप नहीं बैठ सकते. हमारा धर्म और कर्तव्य हमें पुकार रहा है कि हम जनता की सेवा के लिए जो बेहतर कर सकें वह करने का प्रयास करें. यहां यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि हम लोग यहां विरोध के लिए नहीं बल्कि सहयोग के लिए आए हैं. हमारी पहली प्राथमिकता है कि पानी में घिरे जो लोग हैं गांव हैं उनको राहत मिल सके. रेस्क्यू ऑपरेशन के साथ तत्काल राहत बहुत जरूरी है.